koo-logo
koo-logo
back
समीक्षा सिंह
shareblock

समीक्षा सिंह

@rashtraputri

Poet/Writer/Author/Motivational Speaker

हिन्दी साहित्य एवं अन्य नौ विषयों में परास्नातक समीक्षा सिंह जादौन देश की प्रतिष्ठित लेखिका, कवयित्री एवं विचारक हैं तथा गीत, गज़ल एवं छंदकार के रूप में काव्य मंचों पर स्थापित हैं |हिन्दी सेवा समिति की उपाध्यक्ष, गीत गौरव, साहित्य गौरव व अन्य कई पुरस्कार प्राप्त समीक्षा सिंह आकाशवाणी एवं दूरदर्शन से कई बार काव्यपाठ कर चुकी हैं | सुदर्शन न्यूज पर कवियों की हुँकार कार्यक्रम का सफल संचालन कर चुकी समीक्षा सिंह अन्य कई चैनलों पर काव्यपाठ कर चुकीं हैं |देश की एक मात्र मौलिक एवं विशुद्ध राष्ट्रवादी कवयित्री समीक्षा सिंह जिनकी रचनाएं वही घिसी पिटी ओज की परंपरा से हटकर हिंदुत्व का पक्ष रखतीं हैं एवं राष्ट्र के हिन्दुओं को जाग्रत करने का कार्य करती हैं |शुद्ध साहित्यिक रचनाएँ एवं भावपक्ष की प्रधानता इनकी रचनाओं की विशेषता है|

Show more

calenderwww.rashtraputri.com

calender Joined on Jan 2021

KooKooKoo(825)
LikedLikedLiked(608)
Re-Koo & CommentRe-Koo & CommentRe-Koo & Comment(96)
img
@rashtraputri

Poet/Writer/Author/Motivational Speaker

जिनके मन अभिमान मिले हैं उनको कब सम्मान मिले हैं रुक्मणि ने वैभव पाया पर राधा को भगवान मिले हैं _________©® समीक्षा सिंह आधार आपका अधिकार है
commentcomment
23
img
@rashtraputri

Poet/Writer/Author/Motivational Speaker

जितना भी जीवन मिला, कट जाये अविराम बस इतनी सी कामना, है तुमसे प्रभु राम __________©®समीक्षा सिंह | कासगंज
commentcomment
13
img
@rashtraputri

Poet/Writer/Author/Motivational Speaker

पीर फकीरन को पूजत है, मजार पे शीश झुकाय रही है भोली बकरिया संग सियार के गीत मिलन के गाय रही है मेरो सियार है शाकाहारी जा सबको समझाय रही है जाय रही है सब से लड़ के, बोरी में भर के आय रही है _____________________________©®समीक्षा सिंह आधार भूलना पाप है ..........
commentcomment
9
img
@rashtraputri

Poet/Writer/Author/Motivational Speaker

किन किन को सम्मान करो तो, सबै पता है किनकौ अब्बा जान करो तो, सबै पता है खाली प्लाट हतो किनको अब भूल गए का गुन्डन को भगवान करो तो , सबै पता है भारत माँ को कहत तो डायन कहाँ गओ अब मंत्री आजम खान करो तो, सबै पता है जो ज्यादा हिन्दुन को कोसै सगो तुमाओ क्यों शायर इमरान करो तो, सबै पता है बग्घी–फग्गी और नचनियाँ याद करौ तौ नंगन को गुणगान करो तो, सबै पता है ©® समीक्षा सिंह
commentcomment
8
img
@rashtraputri

Poet/Writer/Author/Motivational Speaker

सोच रहा है सारा भारत, पूछ रही है पुण्य धरा कोई चरखे वाला आखिर क्यों फांसी से नहीं मरा _______________________©®समीक्षा सिंह
commentcomment
12
img
@rashtraputri

Poet/Writer/Author/Motivational Speaker

तलवारों के डर से जिनके पुरखे धर्म गँवा बैठे उनके साहबजादों को लड़कर मरने की ख़्वाहिश है । समीक्षा सिंह
commentcomment
6
img
@rashtraputri

Poet/Writer/Author/Motivational Speaker

सपा कार्यकाल में लिखी मेरी एक रचना जलते हैं अरमान हमारी बस्ती में कितने हैं शमशान हमारी बस्ती में भीड़ फैसले करती है मजलूमों के खुले घूमते श्वान हमारी बस्ती में नाम देखकर बाँटे जाते हर्जाने मज़हब से ऐलान हमारी बस्ती में देशद्रोहियों के रक्षक तुम नेता जी शायर है इमरान हमारी बस्ती में माँ को डायन कहने वाले नेता हैं मंत्री आज़म खान हमारी बस्ती में © समीक्षा सिंह
commentcomment
13
img
@rashtraputri

Poet/Writer/Author/Motivational Speaker

सोचिये 🙂 🙂 🙂 यदि अहिंसा पूज्य होती, कृष्ण क्यों गीता सुनाते राम भी चरखा चलाकर,मात सीता को छुड़ाते सूत कतता देख कर ही, सब निशाचर भाग जाते पालते सब एक बकरी, चैन से जीवन चलाते _______________________समीक्षा सिंह आधार को भूलिए मत
commentcomment
7
img
@rashtraputri

Poet/Writer/Author/Motivational Speaker

कोई पद,ना कोई प्रतिष्ठा केवल हिन्दू हित में निष्ठा ©® समीक्षा सिंह | कासगंज और हाँ आधार देखना मत भूलिए
commentcomment
8
img
@rashtraputri

Poet/Writer/Author/Motivational Speaker

सुनो बेटियो, जेहादी के चक्कर में यदि ध्यान तुम्हारा बट जाएगा और तुम्हारा मजनूँ एक दिन बम बाँधकर फट जाएगा
commentcomment
18
create koo