koo-logo
backRamaramarama 1008back

Ramaramarama 1008

@ramaramarama

Retired

सनातन धर्म है तभी तो दुनियाँ कायम है,,,जय माँ भारती,,, गर्व से कहो हम हिन्दू हैं

calenderhttps://www.kooapp.com/profile/ramaramarama

calender Sep 2020 में कू पर आए।

कू (3618)
पसंद किया
रिकू और कमेंट
मेंशन्स
महाभारत का वास्तविक नाम जय-संहिता था जिसकी रचना वेदव्यास जी ने 60 लाख श्लोकों से की थी बाद में इसे महाभारत नाम से पुकारा जाने लगा... वर्तमान समय की महाभारत में कुल श्लोकों की संख्या लगभग एक लाख ही है
img
comment
सत्यलोक से ऊपर का लोक वैकुण्ठ लोक में श्री विष्णु श्रीदेवी, भूदेवी, नीलादेवी और महालक्ष्मी के साथ रहते हैं यहां की देखभाल करने वाले सभी 96 करोड़ पार्षद भी उनकी तरहा ही चतुर्भुज आकार के होते हैं जगमग करते इस धाम में ना तो सूर्य और ना ही चंद्रमा का प्रकाश होता है विष्णु-भक्तों का अंतिम यात्रा पड़ाव यही धाम है, जिसमें प्रवेश से पूर्व उन पुण्यात्माओं को विरजा नदी में स्नान करना होता है
img
img
img
img
comment
श्री कृष्ण के खड्ग का नाम नंदक, गदा का कौमौदकी व गुलाबी शंख का नाम पांचजन्य था भगवान श्री कृष्ण के परम् धाम गमन के समय शरीर पर ना तो एक झुरी थी ना ही कोई एक बाल सफेद था महाभारत, विष्णुपुराण, हरिवंशपुराण, भागवतपुराण किसी में भी राधा का वर्णन नहीं है, गीत-गोविन्द और प्रचलित जनश्रुतियों में ही उनका वर्णन हुआ है आध्यात्मिकता की वैज्ञानिक व्याख्या उनके द्वारा श्रीमद् भगवद् गीता में दी गई
img
img
img
img
comment
अर्जुन का एक और नाम गुडाकेश भी है क्योंकि उन्होंने अपनी निद्रा पर विजय प्राप्त कर ली थी योगनिद्रा यानि सोने के एक खास तरीके से ऐसा संभव हो सका 10 से 30 मिनट की योगनिद्रा छः से आठ घण्टे की नींद के बराबर विश्राम देती है इसी योगनिद्रा के अभ्यास से अर्जुन ने नींद पर विजय प्राप्त की थी
img
img
comment
महर्षि अगस्त द्वारा बिना शस्त्र के कलारिप्पयुत व शस्त्र के साथ कलारिप्पयुत का विकास परशुराम जी द्वारा किया गया था और श्री कृष्ण इन दोनों ही में निपूर्ण थे इसी से श्री कृष्ण की नारायणी सेना भयंकर प्रहारक सेना बनी और महाभारत का युद्ध इतिहास का सबसे भयानक युद्ध बन गया इस युद्ध के बाद सिर्फ 18 व्यक्ति ही जीवित बचे रहे
img
img
img
img
comment
रावण के पुष्पक विमान का निमार्ण विश्वकर्मा जी ने किया था यह विमान मन की गति से चलता था इसे रावण अपनी इच्छानुसार बड़ा या छोटा कर सकता था पुष्पक विमान अपने स्वामी के अतिरिक्त किसी और की आज्ञा नहीं मानता था
img
comment
महाभारत युद्ध की समाप्ति पर रथ से पहले अर्जुन फिर कृष्ण और अन्त में हनुमान जी उतरें तथा हनुमान जी के अंतध्-र्यान होते ही रथ स्वतः ही भस्म हो गया... अर्जुन के कारण पूछने पर श्री कृष्ण जी ने बताया कि रथ तो भीष्म पितामह, द्रोणाचार्य और कर्ण के दिव्यास्त्रों से बहुत पहले ही जल गया था वह तो उनके संकल्प से चल रहा था अर्जुन के अहंकार को मिटाने के लिये ही श्री कृष्ण ने अर्जुन को पहले रथ से उतारा
img
img
img
img
comment
भगवान विष्णु का प्रथम अवतार मत्स्य अवतार है जब एक राक्षस शंखासुर ने त्रिलोक पर अपना अधिकार कर वेदों को चुरा कर समुंद्र की गहराई में छुपा दिया था तब आपने मत्स्य अवतार ले शंखासुर का वध किया और वेदों को फिर से पाया और उन्हें पुनः स्थापित किया ओम् नमः भगवते वासुदेवाय
img
img
img
img
comment
चक्रपाणये वह जो हाथों में सुदर्शन चक्र धारण करने वाले हैं मंगलम भगवान विष्णु मंगलम गरुणध्वजः मंगलम पुण्डरी काक्षः मंगलाय तनो हरि
img
comment
ये छः प्रकार के लोग हमेशा ही दुःखी रहते हैं :- ईर्ष्या करने वाले ; घृणा करने वाले ; असंतोषी ; क्रोधी ; शक करने वाले और दूसरों के सहारे जीवन निर्वाह करने वाले विदुर-नीति
img
comment