backराजेश मिश्र "मैत्रेय"back

राजेश मिश्र "मैत्रेय"

@rajesh_maitreya

अध्यापन, लेखन

'सहमति या असहमति' सत्य के दर्शन में बाधक हैं

calenderhttps://www.kooapp.com/profile/rajesh_maitreya

calender Oct 2020 में कू पर आए।

कू (712)
पसंद किया
रिकू और कमेंट
मेंशन्स
img
अध्यापन, लेखन
जैसी दृष्टि.. वैसी सृष्टि ------------------------- जिस प्रकार से चीनी जल में घुलकर अपना अस्तित्व खो कर जल को मीठा कर देती है उसी प्रकार ईश्वर की भक्ति आसपास के वातावरण को भक्तिमय और आनंदमय बना देती है। ईश्वर की भक्ति का अर्थ हम समस्त जड़ चेतन और सर्वत्र फैली हुई सृष्टि में उसके प्रतिबिंब को देखें। इस प्रकार का स्वीकार भाव ईश्वर की भक्ति है। #राजेश_मैत्रेय
re4
like19
WhatsApp
img
अध्यापन, लेखन
#mannkibaat धार्मिकता का अर्थ प्रसन्नता भरा उत्सव है -------------------------------------------------- पूरी प्रकृति को यथावत स्वीकार करने से मन में कोई शिकायत नहीं रह जाती, तब यही भाव प्रार्थना बन जाता है। पूरी चेतना आनंद से भर जाती है और यह आनंद आसपास भी दिखाई देने लगता है। अक्सर कुछ लोग अपने आप को धार्मिक दिखाने के लिए मुंह लटकाए हुए और गंभीरता का प्रदर्शन करते हैं। #राजेश_मैत्रेय
re2
like21
WhatsApp
img
अध्यापन, लेखन
"धर्म" का "मर्म" ही "कर्म" है.. ------------------------------- जैसा कर्म वैसा आपका धर्म फिर वैसा ही मर्म शुभ कर्म से धर्म की शुभता और प्रभु की कृपा मिलती है! यही मर्म है! #राजेश_मैत्रेय
re3
like25
WhatsApp
img
अध्यापन, लेखन
🌹प्रभु की🌹 🌹जहां- जहां 🌹 🌹पड़े कृपा दृष्टि, 🌹 🌹वहां- वहां 🌹 🌹होवे जन-जन 🌹 🌹आनंद वृष्टि,🌹 🌹तेरा ही 🌹 🌹दिख रहा प्रसार 🌹 🌹संपूर्ण सृष्टि,🌹 🌹आलोक करूं 🌹 🌹भक्ति करूं 🌹 🌹मिले तृप्ति!🌹🙏🏻 #राजेश_मैत्रेय
re5
like28
WhatsApp
img
अध्यापन, लेखन
सोने से पहले सोना भूल जाओ... भाव काफी गिर गए हैं.. लेकिन जरूरत किस बात की, पहले भी गिरे हैं.. चलो सो जाओ! यह सोना अभी कीमती है! #राजेश_मैत्रेय
re3
like23
WhatsApp
img
अध्यापन, लेखन
दूसरे की लंगोटी से अपनी तस्वीर करते हैं साफ, राजनीति में इसी तरह पॉपुलरिटी का बढ़ता ग्राफ! आजकल की राजनीति खींची जाएं लंगोटी, किसी तरह बिसात पर बैठा ली जाए अपनी गोटी! जितना लंपट, जितना निकम्मा, उतना ही वह फिट, थोड़ी सी बकबक कर ले.. बस हो जाए हिट! जाति -पात का बना "गडबंधन" झोंके जाओ धूल, जनता जाए भाड़ में, अपनी तिजोरी हो जाए फुल! जय हो राजनीति शिगूफा गुड़गुड़ फूंके हुक्का! #राजेश_मैत्रेय
re4
like24
WhatsApp
img
अध्यापन, लेखन
#teamindia अंग्रेज क्रिकेट पंडितों के सभी पूर्वानुमान को झुठलाते हुए भारतीय क्रिकेट टीम ने यह दिखा दिया कि मैदान पर खेला जाने वाला यह खेल जबान से नहीं खेला जाता। साथ ही साथ यह बता दिया कि भारतीय टीम की बेंच स्ट्रैंथ में कितनी गहराई है। यह पहला मौका नहीं है जब बेंच स्ट्रैंथ ने अपनी पूरी ताकत दिखाई हो,ऐसा ही नजारा 2007 के t20 वर्ल्ड कप में दिखा थाजब कुछ प्रमुख खिलाड़ियों के ना होने के बावजूद भी दमखम
comment
re4
like19
WhatsApp
img
अध्यापन, लेखन
#indianculture पनीर दूध खीर ------------------ 1 किलो दूध को तब तक उबालें,जब वह पौन किलो रह जाए। उसमें 150 ग्राम चीनी डाल दें। फिर उसमें मोटा घिसा हुआ ढाई सौ ग्राम पनीर डाल दें। धीरे-धीरे चलाते रहें... जिससे कि वह बर्तन में ना लगे। फिर उसमें कटे हुए मेवे(काजू बादाम, पिस्ता आवश्यकतानुसार और पिसी इलायची) डाल दें। ठंडा होने के बाद गुनगुना गुनगुना परोंसें। #राजेश_मैत्रेय
re4
like22
WhatsApp
img
अध्यापन, लेखन
मौन में प्यास का जो निर्वात बनता है उसी से ही प्रेम का निर्झर बहता है! अपनी पुकार में निशब्द में मुझे पहचान, उसी के रस में प्रेम का दरिया बहता है! विरह के क्षण में सुनता हूं हृदय की धड़कन, तेरे ही नाम का स्वर सुनाई पड़ता है! बैठा हूं धूप में तेरी ऊष्मा को ओढ़कर, लगती हो कितने पास तेरा अपनापन लगता है! मौन में प्यास का जो निर्वात बनता है उसी में ही तेरे प्रेम का प्रेम उमड़ताहै #राजेश_मैत्रेय
re4
like26
WhatsApp
img
अध्यापन, लेखन
इश्क प्यार मोहब्बत मिल गई.. रे! मिल गई! ------------------------ तू इश्क की शमा जला.. फिर मैं दिखाऊं अपनी कला! मोहब्बत के मायने, मोहब्बत के दीवाने, ही जाने... शमा से जलने में नहीं घबड़ाते परवाने! तू इतना ना रिझा मनचली... मैं खो ना जाऊं तेरे इश्क की गली! मोहब्बत का मारा, यह दिल, घूमता है.. तू मुझे और मेरा दिल तुझे ढूंढता है! #राजेश_मैत्रेय
re3
like22
WhatsApp
ask