koo-logo
koo-logo
back
परिदृश्य
shareblock

परिदृश्य

@paridrishya

(राष्ट्रीय हिंदी पत्रिका)

...शहर से सुदूर तक!

calender Joined on Feb 2021

KooKooKoo(148)
LikedLikedLiked(2028)
Re-Koo & CommentRe-Koo & CommentRe-Koo & Comment(72)
img
@paridrishya

(राष्ट्रीय हिंदी पत्रिका)

कपड़े से छाना हुआ पानी स्वास्थ्य को ठीक रखता हैं। और... विवेक से छानी हुई वाणी सबंध को ठीक रखती हैं॥ हर दिन शुभ हो..🙏🏻
commentcomment
img
@paridrishya

(राष्ट्रीय हिंदी पत्रिका)

हमसफर यहाँ सभी हैं,फर्क सिर्फ इतना है कुछ साथ चलते हैं, कुछ साथ छोड़ जाते हैं हर दिन शुभ हो..🙏🏻
commentcomment
img
@paridrishya

(राष्ट्रीय हिंदी पत्रिका)

रिश्ता निभाना हर किसीके बस की बात नहीं है, अपना दिल भी दुखाना पड़ता है, किसी और की ख़ुशी के लिए !! हर दिन शुभ हो 🙏
commentcomment
img
@paridrishya

(राष्ट्रीय हिंदी पत्रिका)

होशियार होना अच्छी बात है लेकिन दूसरों को बेवकूफ समझना सबसे बड़ी मूर्खता है!! हर दिन शुभ हो..🙏🏻
commentcomment
img
@paridrishya

(राष्ट्रीय हिंदी पत्रिका)

इंसान एक शब्द बोलकर निकल जाता है, सामने वाले को उससे निकलने में सालों लग जाते हैं. हर दिन शुभ हो.🙏🏻
commentcomment
img
@paridrishya

(राष्ट्रीय हिंदी पत्रिका)

दोनो ममताओं कि खूबी माँ सोचती है,बेटा आज भूखा ना रहे और पिता सोचता है कि बेटा कल भूखा ना रहे बस यही वजह है कि ये दो सम्बन्ध ऐसे हैं संसार में,जिनका दर्जा, ’भगवान’ के बराबर है हर दिन शुभ हो..🙏🏻
commentcomment
img
@paridrishya

(राष्ट्रीय हिंदी पत्रिका)

ऐसा लगता है हमे तो सारे फरिश्ते ही मिले हैं अपनी जिंदगी में.....! कोई गलती करता ही नहीं हमेशा हमारी ही गलती होती है.....! हरदिन दिन शुभ हो ..🙏
commentcomment
2
img
@paridrishya

(राष्ट्रीय हिंदी पत्रिका)

बहुत हुआ किसान आंदोलन। अब यदि किसान हो तो अपने घर तो लौट जाओ क्योंकि प्रधानमंत्री तुम्हारी बात मान गए। अब सोचों ~बदलते समय में भारत के जितनी भूमि पर कब्रिस्तान हैं,अगर उसपर खेती की जाये तो तकरीबन ८ करोड़ लोगों का भोजन मिल सकता हैं?
voters

3 votes

time-left

finished

commentcomment
img
@paridrishya

(राष्ट्रीय हिंदी पत्रिका)

हर कोई चंदन तो नहीं कि जीवन सुगंधित कर सके कुछ नीम के पेड़ भी होते है जो सुगंधित तो नहीं करते पर काम बहुत आते है हर दिन शुभ हो..🙏🏻
commentcomment
img
@paridrishya

(राष्ट्रीय हिंदी पत्रिका)

हाथों ने पैर से पुछा...सब तुझ पर ही मस्तक रखते है, मुझ पर नही... पैर ने कहा.. उसके लिए जमीन पर रहना पङता है हवा मे नही.!! हर दिन शुभ हो 🙏
play
commentcomment
create koo