koo-logo
koo-logo
back
Omprakash
shareblock

Omprakash

@omprakashL8IDS

calender Joined on Oct 2021

KooKooKoo(3955)
LikedLikedLiked(1744)
Re-Koo & CommentRe-Koo & CommentRe-Koo & Comment(1047)
img
@ANKUR_SAGAR अगर प्यार की बात पूछो तो प्यार का रूप नहीं होता किसी को अपने वतन से प्यार होता है कोई अपने परिवार से प्यार करता है प्यार करना ठीक है प्यार मे बहेकजाना ठीक नहीं है जैसे दारू पीना गलत नहीं है पीकर बहेक जाना गलत है ज्यादा होगी तबही बहेकेगे इतनी क्यो पिए ऐसे ही प्यार जायज नाजायज नहीं समाज गंदा ना हो उसमें सबकी भलाई
commentcomment
img
@dineshkhateekbjp अगर महामारी से तूफानों से दुर्घटना से जवान मौतें माता-पिता के रहते हुए जवान पुत्र खत्म होने में हर आफतो से बचना है अपनी पूरी उम्र सुखमय जीना ह तो गलतियां बन्द करो बुराईयों से दूर रहो बुरे से जुड़े हो तो उन्हें सुधार करने के लिए कहते रहो ना माने तो उनक साथ छोड़ दो क्योंकि इंसान दूसरो से नह मरता लेकिन अपनों से दिन रात मरता है कमियों की बजह से दूसरो को दूसरा मिल जाएगा इंसान के कर्मो
commentcomment
img
@anuj.gangwar042 ब्रह्मा विष्णु महेश ए महा शक्तियां है सारा जग संसार हिन्दू है जातियां बनाली धर्म भी बना लिए किताबें बना ली हर किताब एक जैसी नहीं है बही से बट गया इंसान तारीख बराबर बनादी हिन्दी महीनो में एक दिन कम ज्यादा कर दिया उलझा दिया इंसानों को ऐसे ही उलझा है इंसान जिस दिन समझ में आएगी दुनिया स्वर्ग बन जाएगी
commentcomment
img
@Deepak_Mital सत्य वचन इंसान का जीवन चक्रविऊ है चारों तरफ से रिस्तो में जुड़ा है ऐसे ही अच्छाई बुराई से जुड़ा है अच्छा होते हुए भी इन्सान पापों से जुड़ा है क्योंकि उससे लोग जुड़े हैं उन लोगों में कुछ बुराई जुड़ी है इसलिए सबकुछ घिरा हुआ है उन पापो को खत्म होना है परिवर्तन से और परिवर्तन आसानी से नहीं होगा इसलिए आफते चल रही है सिर्फ इंसानों को सुधारने के लिए
commentcomment
img
@kumkum_singhP081A कर्म अच्छे हो बचपन से तो परिक्षा जल्दी पूरी हो जाती है और सुखमय होते है लेकिन उनसे भी बहुत जुड़े होते हैं तो सब तो नहीं अच्छे होते जो अच्छे नहीं उनके दर्द खुद में जुड़े होते है इसलिए दूसरो की वजह से इंसान रोते हैं
commentcomment
img
@pulikkalsantosh जै माता दी जै गणपति बप्पा मोरया
commentcomment
img
@श्रीराम_साहनी हर हालत में इंसानों को सुधरना होगा लगभग २ साल हो गये मुशीबतो में इंसान घिरा हुआ है जबतक सुधार की जनसंख्या जादा नहीं होगी तबतक आफतों से इंसान घिरा रहेगा जब थोड़ा पाप रह जाएगा तब इंसान ही इंसान को सुधार के लिए मजबूर कर सकते हैं क्योंकि अच्छाई की संख्या ज्यादा होगी तब सारी आफते खत्म होगी अ इंसानों के उपर है सुधार करने मे ए बिधी का बिधान है ए सत्य है
commentcomment
create koo