koo-logo
koo-logo
back
narshi
shareblock

narshi

@kumar3512

hindi

calender Joined on Apr 2021

KooKooKoo(1073)
LikedLikedLiked(4)
Re-Koo & CommentRe-Koo & CommentRe-Koo & Comment(114)
img
#FactsAboutTheQuran Bakhabar Sant Rampal Ji 📚हजरत मुहम्मद जी को भी जिंदा वेश धारण करके मक्का शहर में खुदा कबीर मिले थे। संत गरीबदास को बताया था। वाणी (अमर कछ रमैंणी से):- मुहमंद बोध सुनो ब्रह्म ज्ञानी, शंकर दीप से आये प्राणी।। लोक दीप कूं हम लेगैऊ, इच्छा रूपी वहाँ न रहेऊ।। उलट मुहमंद महल पठाया, गुझ बीरज एक कलमा धाया।। रोजा बंग, निवाज दई रे, बिसमल की नहीं बात कही रे।। #FactsAboutTheQuran
commentcomment
0
img
#FactsAboutTheQuran Bakhabar Sant Rampal Ji 📚हजरत मुहम्मद जी को भी जिंदा वेश धारण करके मक्का शहर में खुदा कबीर मिले थे। संत गरीबदास को बताया था। वाणी (अमर कछ रमैंणी से):- मुहमंद बोध सुनो ब्रह्म ज्ञानी, शंकर दीप से आये प्राणी।। लोक दीप कूं हम लेगैऊ, इच्छा रूपी वहाँ न रहेऊ।। उलट मुहमंद महल पठाया, गुझ बीरज एक कलमा धाया।। रोजा बंग, निवाज दई रे, बिसमल की नहीं बात कही रे।। #FactsAboutTheQuran
commentcomment
0
img
#FactsAboutTheQuran Bakhabar Sant Rampal Ji 📚हजरत मुहम्मद जी को भी जिंदा वेश धारण करके मक्का शहर में खुदा कबीर मिले थे। संत गरीबदास को बताया था। वाणी (अमर कछ रमैंणी से):- मुहमंद बोध सुनो ब्रह्म ज्ञानी, शंकर दीप से आये प्राणी।। लोक दीप कूं हम लेगैऊ, इच्छा रूपी वहाँ न रहेऊ।। उलट मुहमंद महल पठाया, गुझ बीरज एक कलमा धाया।। रोजा बंग, निवाज दई रे, बिसमल की नहीं बात कही रे।। #FactsAboutTheQuran
commentcomment
0
img
#FactsAboutTheQuran Bakhabar Sant Rampal Ji 📚हजरत मुहम्मद जी को भी जिंदा वेश धारण करके मक्का शहर में खुदा कबीर मिले थे। संत गरीबदास को बताया था। वाणी (अमर कछ रमैंणी से):- मुहमंद बोध सुनो ब्रह्म ज्ञानी, शंकर दीप से आये प्राणी।। लोक दीप कूं हम लेगैऊ, इच्छा रूपी वहाँ न रहेऊ।। उलट मुहमंद महल पठाया, गुझ बीरज एक कलमा धाया।। रोजा बंग, निवाज दई रे, बिसमल की नहीं बात कही रे।। #FactsAboutTheQuran
commentcomment
0
img
#FactsAboutTheQuran Bakhabar Sant Rampal Ji 📚जब कबीर खुदा ने देखा कि नेक आत्मा मुहम्मद काल के जाल में फँस गए हैं, तब उसे मिला। उनके आग्रह पर उनको ऊपर अपने लोक में जहाँ खुदा का सिंहासन है, लेकर गए। उसका शंकर द्वीप भी दिखाया जहाँ से वह पृथ्वी पर आया था। परंतु मुहम्मद ने सतलोक में रहने की इच्छा व्यक्त नहीं की। इसलिए वापिस शरीर में छोड़ दिया। फिर भी मुहम्मद की समय-समय पर गुप्त मदद करता रहा। #FactsAb
commentcomment
0
img
#FactsAboutTheQuran Bakhabar Sant Rampal Ji 📚जब कबीर खुदा ने देखा कि नेक आत्मा मुहम्मद काल के जाल में फँस गए हैं, तब उसे मिला। उनके आग्रह पर उनको ऊपर अपने लोक में जहाँ खुदा का सिंहासन है, लेकर गए। उसका शंकर द्वीप भी दिखाया जहाँ से वह पृथ्वी पर आया था। परंतु मुहम्मद ने सतलोक में रहने की इच्छा व्यक्त नहीं की। इसलिए वापिस शरीर में छोड़ दिया। फिर भी मुहम्मद की समय-समय पर गुप्त मदद करता रहा। #FactsAb
commentcomment
0
img
#FactsAboutTheQuran Bakhabar Sant Rampal Ji 📚जब कबीर खुदा ने देखा कि नेक आत्मा मुहम्मद काल के जाल में फँस गए हैं, तब उसे मिला। उनके आग्रह पर उनको ऊपर अपने लोक में जहाँ खुदा का सिंहासन है, लेकर गए। उसका शंकर द्वीप भी दिखाया जहाँ से वह पृथ्वी पर आया था। परंतु मुहम्मद ने सतलोक में रहने की इच्छा व्यक्त नहीं की। इसलिए वापिस शरीर में छोड़ दिया। फिर भी मुहम्मद की समय-समय पर गुप्त मदद करता रहा।
commentcomment
0
img
#FactsAboutTheQuran Bakhabar Sant Rampal Ji 📚जब कबीर खुदा ने देखा कि नेक आत्मा मुहम्मद काल के जाल में फँस गए हैं, तब उसे मिला। उनके आग्रह पर उनको ऊपर अपने लोक में जहाँ खुदा का सिंहासन है, लेकर गए। उसका शंकर द्वीप भी दिखाया जहाँ से वह पृथ्वी पर आया था। परंतु मुहम्मद ने सतलोक में रहने की इच्छा व्यक्त नहीं की। इसलिए वापिस शरीर में छोड़ दिया। फिर भी मुहम्मद की समय-समय पर गुप्त मदद करता रहा। #FactsAb
commentcomment
0
img
#FactsAboutTheQuran Bakhabar Sant Rampal Ji 📚जब कबीर खुदा ने देखा कि नेक आत्मा मुहम्मद काल के जाल में फँस गए हैं, तब उसे मिला। उनके आग्रह पर उनको ऊपर अपने लोक में जहाँ खुदा का सिंहासन है, लेकर गए। उसका शंकर द्वीप भी दिखाया जहाँ से वह पृथ्वी पर आया था। परंतु मुहम्मद ने सतलोक में रहने की इच्छा व्यक्त नहीं की। इसलिए वापिस शरीर में छोड़ दिया। फिर भी मुहम्मद की समय-समय पर गुप्त मदद करता रहा। #FactsAb
commentcomment
0
img
#FactsAboutTheQuran Bakhabar Sant Rampal Ji 📚जब कबीर खुदा ने देखा कि नेक आत्मा मुहम्मद काल के जाल में फँस गए हैं, तब उसे मिला। उनके आग्रह पर उनको ऊपर अपने लोक में जहाँ खुदा का सिंहासन है, लेकर गए। उसका शंकर द्वीप भी दिखाया जहाँ से वह पृथ्वी पर आया था। परंतु मुहम्मद ने सतलोक में रहने की इच्छा व्यक्त नहीं की। इसलिए वापिस शरीर में छोड़ दिया। फिर भी मुहम्मद की समय-समय पर गुप्त मदद करता रहा।
commentcomment
0
create koo