koo-logo
koo-logo
back
KA〽️AL SANDHU
shareblock

KA〽️AL SANDHU

@kamal_sandhu

Tally,Busy Software Tech.

#GodKabir Must Listen Satsang At Sadhna channel 7:30 PM Daily.

calender Joined on Aug 2020

KooKooKoo(344)
LikedLikedLiked(83)
Re-Koo & CommentRe-Koo & CommentRe-Koo & Comment(64)
img
@kamal_sandhu

Tally,Busy Software Tech.

#vinoddua Without the Bhagti of Supreme God, the human life is damned.
commentcomment
img
@kamal_sandhu

Tally,Busy Software Tech.

#गीतामहोत्सव_पर_गीतासार पवित्र गीता जी को बोलने वाला काल (ब्रह्म-ज्योति निरंजन) है, न कि श्री कृष्ण जी। क्योंकि श्री कृष्ण जी ने पहले कभी नहीं कहा कि मैं काल हूँ तथा बाद में कभी नहीं कहा कि मैं काल हूँ।
commentcomment
img
@kamal_sandhu

Tally,Busy Software Tech.

#गीतामहोत्सव_पर_गीतासार गीता अध्याय 15 के श्लोक 4 में कहा है कि उस तत्वदर्शी संत के मिल जाने के पश्चात् उस परमेश्वर के परम पद की खोज करनी चाहिए अर्थात् उस तत्वदर्शी संत के बताए अनुसार साधना करनी चाहिए जिससे पूर्ण मोक्ष(अनादि मोक्ष) प्राप्त होता है। गीता ज्ञान दाता ने कहा है कि मैं भी उसी की शरण में हूँ।
commentcomment
img
@kamal_sandhu

Tally,Busy Software Tech.

#गीतामहोत्सव_पर_गीतासार गीता अध्याय 17 श्लोक 23-28 में ओम मंत्र जो काल का है तथा तत मंत्र जो सांकेतिक है, यह अक्षर पुरूष की साधना का है तथा सत मंत्र भी सांकेतिक है। यह परम अक्षर पुरूष की साधना का है। इन तीनों मंत्रों के जाप से पूर्ण मोक्ष प्राप्त होता है।
commentcomment
img
@kamal_sandhu

Tally,Busy Software Tech.

#गीतामहोत्सव_पर_गीतासार गीता सार वास्तविक भक्ति विधि के लिए गीता ज्ञान दाता प्रभु काल ब्रह्म किसी तत्वदर्शी की खोज करने को कहता है (गीता अध्याय 4 श्लोक 34) इस से सिद्ध है गीता ज्ञान दाता (ब्रह्म) द्वारा बताई गई भक्ति विधि पूर्ण नहीं है।
commentcomment
img
@kamal_sandhu

Tally,Busy Software Tech.

#गीतामहोत्सव_पर_गीतासार गीता अध्याय 15 श्लोक 17 में काल ने कहा है कि वास्तव में अविनाशी परमात्मा तो इन दोनों (क्षर पुरूष तथा अक्षर पुरूष) से दूसरा ही है वही तीनों लोकों में प्रवेश करके सर्व का धारण पोषण करता है वही वास्तव में परमात्मा कहा जाता है।
commentcomment
img
@kamal_sandhu

Tally,Busy Software Tech.

#गीतामहोत्सव_पर_गीतासार पवित्र गीता जी को बोलने वाला काल (ब्रह्म-ज्योति निरंजन) है, न कि श्री कृष्ण जी। क्योंकि श्री कृष्ण जी ने पहले कभी नहीं कहा कि मैं काल हूँ तथा बाद में कभी नहीं कहा कि मैं काल हूँ।
commentcomment
img
@kamal_sandhu

Tally,Busy Software Tech.

#गीतामहोत्सव_पर_गीतासार गीता अध्याय 3 श्लोक 14 से 15 में भी स्पष्ट है कि ब्रह्म काल की उत्पत्ति परम अक्षर पुरूष से हुई वही परम अक्षर ब्रह्म ही यज्ञों में पूज्य है।
commentcomment
img
@kamal_sandhu

Tally,Busy Software Tech.

#गीतामहोत्सव_पर_गीतासार वित्र गीता जी के ज्ञान को यदि श्री कृष्ण जी बोल रहे होते तो यह नहीं कहते कि अब प्रकट हुआ हूँ।
commentcomment
img
@kamal_sandhu

Tally,Busy Software Tech.

#गीतामहोत्सव_पर_गीतासार अध्याय 11 श्लोक 32 में पवित्र गीता बोलने वाला प्रभु कह रहा है कि ‘अर्जुन मैं बढ़ा हुआ काल हूँ। अब सर्व लोकों को खाने के लिए प्रकट हुआ हूँ।‘
commentcomment
create koo