backराजेश मिश्र ”कण”back

राजेश मिश्र ”कण”

@राजेश_मिश्र_कण

Astrologer, Writer, Spiritual Motivator

जैसो मोती ओस की, तैसो ये संसार!

calenderhttp://bhaskarjyotishya.blogspot.com

calender July 2020 में कू पर आए।

कू (72)
पसंद किया
रिकू और कमेंट
मेंशन्स
img
Astrologer, Writer, Spiritual Motivator
लोग दुसरे के सुख से नही, दुसरो के दुख से खुश होते है।
like
comment
re
WhatsApp
img
Astrologer, Writer, Spiritual Motivator
श्रीराम । शब्दो के भी स्वाद होते है, किसी के सामने परोसने से पहले चख लेना चाहिए। पं.राजेश मिश्र ”कण”
like
comment
re
WhatsApp
img
Astrologer, Writer, Spiritual Motivator
श्रीराम । भद्रं भद्रं कृतं मौनं कोकिलैर्जलदागमे। दर्दूराः यत्र वक्तारः तत्र मौनं हि शोभते।। भावार्थः वर्षा ऋतु के प्रारंभ में कोयलें चुप हो जाती है, क्योंकि बोलने वाले जहाँ मेंढक हो वहाँ चुप रहना ही शोभा देता है। (नीतिश्लोक) जय जय सीताराम
like5
re
WhatsApp
img
Astrologer, Writer, Spiritual Motivator
श्रीराम । नातिक्रान्तानि शोचेत प्रस्तुतान्यनागतानि चित्यानि। भावार्थः बीती बातों पर दुःख न मनाये। वर्तमान की तथा भविष्य की बातों पर ध्यान दें। चन्दनं शीतलं लोके, चन्दनादपि चन्द्रमाः। चन्द्रचन्दनयोर्मध्ये शीतला साधुसंगतिः। भावार्थः संसार में चन्दन को शीतल माना जाता है लेकिन चन्द्रमा चन्दन से भी शीतल होता है। अच्छे मित्रों का साथ चन्द्र और चन्दन दोनों की तुलना में अधिक शीतलता देने वाला होता है।
like5
re
WhatsApp
img
Astrologer, Writer, Spiritual Motivator
जीवेषु करुणा चापि मैत्री तेषु विधीयताम्। भावार्थः जीवों पर करुणा एवं मैत्री कीजिये। सनातन-धर्म
like5
re
WhatsApp
img
Astrologer, Writer, Spiritual Motivator
आधे दुख, ग़लत लोगों से उम्मीद रखने से होते हैं, और बाक़ी आधे, सच्चे लोगों पर श़क करने से होते हैं.... :)
like3
re
WhatsApp
img
Astrologer, Writer, Spiritual Motivator
भारत के अनमोल प्रतिभाशाली, सचिन तेमदुलकर, व 91 साल की भारत रत्न लता मंगेश्कर के tweet की जांच होनी चाहिये... पर 21 साल की #दिशा_रवि के देश के खिलाफ साज़िश की जॉच नहीं ! #At21 #DishaRavi #toolkit #लतामंगेशकर
like2
comment
re2
WhatsApp
img
Astrologer, Writer, Spiritual Motivator
कितना भी भटक ले मन, . . चैन हरि चरणों में मिलेगा.. #सुप्रभात
like5
re
WhatsApp
img
Astrologer, Writer, Spiritual Motivator
श्रीराम । व्यक्ति जब किसी का अंध विरोध करता है, तो , उसके प्रति मन बुद्धि और हृदय से अंधा हो जाता है उसके सभी उत्तम व शुभ कृत्य भी विरोधी प्रतीत होते है। उसके प्रति सिर्फ घृणा के भाव होते है और यह सब उसके शब्दो से स्पष्ट पता चलता है। ठीक इसी प्रकार जब कोई व्यक्ति किसी का अंध समर्थन करता है, तो उसकी भी बुद्धि, मन और हृदय अन्धा हो जाता है। और उसे भी सभी नीच व पापकर्म शुभ व मांगलिक प्रतीत होते है
like8
comment
re1
WhatsApp
img
Astrologer, Writer, Spiritual Motivator
श्रीराम ।
like4
comment
re
WhatsApp
ask