backअरुणेश मिश्रback

अरुणेश मिश्र

@अरुणेश_मिश्र

प्राचार्य , साहित्यकार

अपनी राय कू करें

calenderhttps://www.kooapp.com/profile/अरुणेश_मिश्र

calender July 2020 में कू पर आए।

कू (2272)
पसंद किया
रिकू और कमेंट
मेंशन्स
img
प्राचार्य , साहित्यकार
नेताओं ने जानबूझकर जनता को भ्रष्ट कर दिया है - दारू बांटकर , रुपये बांटकर , फ्री देकर , चरित्रहीन बनाकर आदि आदि - केवल इसलिए कि जनता जब नेताओं पर उंगली उठाये तो वह कह सकें कि तुम तो हमसे ज्यादा हो । तू मुझे चोर कहे में तुझे । ईमानदारी के दिए बुझे । - अरुणेश मिश्र
like42
re7
WhatsApp
img
प्राचार्य , साहित्यकार
जो कुछ भी किया है हमने ही किया है । दूसरों ने तो केवल बिगाड़ा ही है । जो कुछ हैं वह हम हैं दूसरे तो बेदम हैं , बुद्धि में कम हैं । पूरे देश में यही सोच विकसित किया जा रहा है । - अरुणेश मिश्र
like23
re3
WhatsApp
img
प्राचार्य , साहित्यकार
एक छीँक हमारी है जो हवा मे खप जाती है । एक छीँक राजनेताओँ की है जो अखबारोँ मे छप जाती है । - अरुणेश मिश्र
like33
re5
WhatsApp
img
प्राचार्य , साहित्यकार
जो देख रहा हूँ वही साम दाम दण्ड भेद है । हम तो जनता हैं जिस पत्तल में खाया उसी मे छेद है । - अरुणेश मिश्र
like25
re4
WhatsApp
img
प्राचार्य , साहित्यकार
बांसुरी अधर पर धरते ही अनहद तन मन हो जाता है । - अरुणेश मिश्र
like85
re6
WhatsApp
img
प्राचार्य , साहित्यकार
यह समय सदा अनमोल रहा । समयानुसार युग बोल रहा । किसकी कब नियति रही कैसी यह समय पृष्ठ सब खोल रहा । - अरुणेश मिश्र
like47
re5
WhatsApp
img
प्राचार्य , साहित्यकार
नारी ऊपर से शांत स्निग्ध आमन्त्रित करते रहे नयन । जागरण किया निशिदिन अमोल कब किया चयन कब किया शयन ? नारी की अंतर्व्यथा कहाँ , किसने जानी , हर सका कौन ? कितने भूचाल संभाले हैं कितना अभिशापित रहा मौन ! - अरुणेश मिश्र
like93
re8
WhatsApp
img
प्राचार्य , साहित्यकार
किसी भी पथ पर जाकर लक्ष्य प्राप्त करना हो ; शतपथ ही सही रास्ता है । - अरुणेश मिश्र
like38
re1
WhatsApp
img
प्राचार्य , साहित्यकार
निर्वाह में चूक होने पर प्रेम में विछोह भी है मिलन भी । - अरुणेश मिश्र
like40
re7
WhatsApp
img
प्राचार्य , साहित्यकार
*हल्दी से कम नहीं है आपकी मुस्कान...* *हर दर्द को कम कर देती है...!!* कृपा हे श्री राधे गोविंद 🙏🙏🙏
like58
re3
WhatsApp
ask