koo-logo
backKoo
मेडिकल कॉलेज में दाखिले के ऑल इंडिया कोटा स्कीम (AIQ) के तहत यूजी और पीजी मेडिकल में ओबीसी वर्ग के छात्रों को 27 फीसद आरक्षण देने का ऐतिहासिक निर्णय करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कोटि-कोटि धन्यवाद। इसी शैक्षणिक सत्र से लागू होने वाले फैसले से हर साल पिछड़ा वर्ग एवं ईडब्ल्यूएस के 5,550 छात्रों को इसका फायदा मिलेगा। भाजपा लगातार केंद्रीय कोटा में ओबीसी को आरक्षण देने की मांग करती रही।
comment
15

Comments

dropdown-menu
img
@drsrsinghtomar

Principal/Director (Retd)

*अल्पसंख्यक वाद और जाति आधारित आरक्षण एक ऐसी असंवैधानिक संविधानिक राजनीतिक लाइलाज़ बीमारी है जो “भारतीय सांस्कृतिक सनातनियों“ को कभी भी समरस नहीं होने देगी*। मुसलमानों की संप्रदायगत(शिया, सुन्नी‌, कादयानी ,बरेलवी ,देवबंदी आदि) और जातिगत(शेख‌, सैयद, मुगल ,‌पठान *अशराफ(स्वर्ण)*:अंसारी,सैफी,कुरेशी,नाई,धोबी *पसमांदा(पिछडे दलित*)जनगणना होनी चाहिए, इनके मध्य सम्प्रदाय और जाति आधारित नेतृत्व खडा हो।
comment
1
dropdown-menu
img
धन्यवाद सर
comment
dropdown-menu
img
लेकिन सुशील जी ओबीसी वर्ग के कई ऐसे लोग हैं जोकि कास्ट फैक्टर पर जाते हैं जैसे कि मुलायम सिंह यादव के वंशज मतलब यूपी के अहीर लो ग जो केवल व्यक्तिगत स्वार्थ के खातिर मुलायम सिंह को वोट देते हैं वह बहुत गलत है मुलायम सिंह ने आज तक किसी प्रदेशवासियों का भला नहीं किया शिवाय मुस्लिम व्यक्तियों के लिए अतः निवेदन है की समस्त ओबीसी वर्ग मोदी जी को ही वोट देव
comment
dropdown-menu
img
हम इस गोवर्मेंट् को इसलिये नहीं लाएं की बरसो पुरानी कुस्ट रोग को बढ़ावा दे, गरीबी के आधार पे आरक्षन लानी चाहिए, तभी देश का विकास हो पायेगा..
comment
dropdown-menu
img
@santoshTiwariPatna

Self Employed

विदेशियों ने भारतीय सभ्यता और संस्कृति को जो कर्म पर आधारित थी व्यवसाय पर आधारित थी वही वर्ण व्यवस्था थी ,अंग्रेजों ने जाति प्रथा बनाई और देश को खंडित कर दिया आप लोग भी जाति व्यवस्था बना रहे हैं जो कि कर्म के आधार पर होना चाहिए योग्यता के आधार पर होना चाहिए सभी व्यक्ति गरीबों को सभी पिछड़ों को आरक्षण दीजिए, पर जाती पर नहीं
comment
dropdown-menu
img
इंडिया का नेता योगीआदित्यनाथ जैसा होना चाइये
comment
dropdown-menu
img
लालू जी पर v कुछ बोल देते
comment
dropdown-menu
img
माननीय प्रधानमंत्री जी को सादर अभिवादन
comment
dropdown-menu
img
Aarakshan khatm हो
comment

More Koos from this user

dropdown-menu
@sushilmodi

Politician

लिख रहा हूं मैं अंजाम जिसका कल आगाज आएगा मेरे लहू का हर कतरा इंकलाब लाएगा मैं रहूं या न रहूं पर ये वादा है मेरा तुमसे मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आएगा। शहीद-ए- आजम भगत सिंह जी की जयंती पर उन्हें कोटिशः नमन।
comment
16
dropdown-menu
@sushilmodi

Politician

बिहार और देश के लगभग सभी राज्यों में सच्चे-शांतिप्रिय किसानों ने विपक्ष के ”भारत बंद” को नकार कर फिर साफ किया कि वे मंडी से आजादी का विकल्प देने वाले कृषि कानूनों के विरुद्ध बिल्कुल नहीं हैं। मोदी-सरकार की नीति और नीयत पर भरोसा रखने वाले अन्नदाताओं का आभार।
comment
4
dropdown-menu
@sushilmodi

Politician

किसान आंदोलन के नेता केंद्र सरकार से 11 चक्र की वार्ता में यह नहीं बता पाए कि कृषि कानून में ’ काला ’ क्या है? कथित किसान आंदोलन के नाम पर देश में कोरोना से उबरती अर्थव्यवस्था की लय तोड़ने की जो कोशिश की जाती है, वह कभी सफल नहीं होगी।
comment
dropdown-menu
@sushilmodi

Politician

केंद्र सरकार यदि किसान विरोधी होती, तो 9.5 करोड़ किसानों के खाते में सम्मान निधि के रूप में 1.37 लाख करोड़ रुपये की राशि क्यों डाली जाती? यदि एमएसपी खत्म करने का इरादा होता, तो क्या गेहूं के न्यूनतम समर्थन मूल्य में पिछले 7 साल में प्रति क्विंटल 600₹ की वृद्धि हुई होती? इस साल तो एमएसपी पर रिकार्ड 82 हजार करोड़ मूल्य के गेहूं की खरीदारी हुई, जो एमएसपी पर फैलाए गए झूठ को पूरी तरह तार-तार करती है।
comment
24
dropdown-menu
@sushilmodi

Politician

राज्य चाहें तो जातिगत जनगणना कराने के लिए स्वतंत्र...
comment
7
dropdown-menu
@sushilmodi

Politician

केंद्र सरकार सेवा व सहायता की चला रही मुहिम...
comment
8
dropdown-menu
@sushilmodi

Politician

पटना के गांधी घाट पर आयोजित गंगा आरती में.
comment
3
dropdown-menu
@sushilmodi

Politician

प्रधानमंत्री मोदी की अमेरिका यात्रा नेहरूकालीन विदेश नीति की गलतियों को सुधारने की दिशा में बड़ा कदम है। नेहरू के समय भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता की परोसा थाली चीन की तरफ सरका दी थी,जिसके चलते देश को कूटनीतिक झटके सहने पड़े और पाकिस्तान को आतंकवाद के मुद्दे पर घेरना कठिन बना रहा। चीन समर्थक कांग्रेस को प्रधानमंत्री की अमेरिका यात्रा की उपलब्धियां कैसे दिख सकती हैं।
comment
4
dropdown-menu
@sushilmodi

Politician

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति जो बाइडेन की पहली साक्षात भेंट में अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता के भारत के दावे के प्रति फिर से पुरजोर समर्थन किया। इससे पहले प्रधानमंत्री ने अमेरिका की पांच शीर्ष कंपनियों के सीईओ से बात की, जिससे आने वाले दिनों में चीन से निराश अमेरिकी कंपनियां भारत में निवेश बढा कर यहां रोजगार के अधिक अवसर सृजित कर सकती हैं।
comment
1
dropdown-menu
@sushilmodi

Politician

अमेरिका के साथ आर्थिक, कूटनीतिक और सांस्कृतिक संबंधों को नए शिखर पर लाने वाली सफल विदेश यात्रा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासभा को हिंदी में संबोधित कर उस परम्परा को समृद्ध किया, जिसकी शुरुआत अटलबिहारी वाजपेयी ने की थी।
comment
create koo