koo-logo
koo-logo
दे दे कुछ पल जीवन उधार, अनमोल समय है कर विचार..!! जो देता है वो पाता है, यही प्रकृति को भाता है..!! मत व्यर्थ गंवा दुर्व्यशनों में, जीले जन हित के सपनों में..!! इतना सस्ता ना ये जीवन, जितना सस्ता तू समझे जन..!! जीवन देकर जीवन पाले, सुख दे सुख का छप्पर छा ले..!!
commentcomment
2

Comment

img
@Anurag2899

ज्ञानार्थी,लेखक,शिक्षक,राजनय,शायर,ग़ज़लकार

सरस् सरस्
commentcomment
0

More Koos by this user

img
#26january 🇮🇳🇮🇳😘🇨🇮💐💐🇮🇳🇮🇳 रात के अंधियारे में , जब तक रुतबा रहेगा चाँद का , कारगिल की चोटियों पर , तब तक फैरता रहेगा तिरंगा शान का . धरती क्या आसमान में , डंका बजेगा हिंदुस्तान नाम का..!! 🇮🇳🇮🇳😘🇨🇮💐💐
commentcomment
9
img
#republicdayindia लड़े जंग वीरों की तरह, जब खून खौल फौलाद हुआ | मरते दम तक डटे रहे वो, तब ही तो देश आजाद हुआ |
commentcomment
11
img
#गणतंत्र_दिवस #🇮🇳 🇮🇳 🇮🇳 आन देश की शान देश की देश की हम संतान है 🇮🇳तीन रंगों से रंगा तिरंगा अपनी ये पहेचान है 🇮🇳गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं 🇮🇳
commentcomment
7
img
लोग अक्सर मुझसे पुछते हैं जगह जगह तुम्हारी बहुत ”निन्दा ” हो रही है.. *और मेरा एक ही जवाब होता है* ।। ” *निन्दा*” *उसी की होती है जो जिन्दा है* । *तारीफ तो हमेशा मरे हुये की होती है*... *बस अपने विश्वास में जियो*.. अच्छे काम करते रहिये चाहे लोग तारीफ करें या न करें. *आधी से ज्यादा दुनिया सोती रहती है..* ’’सूरज’’ फिर भी उगता है*.. शुभप्रभात 🙏🙏🙏
commentcomment
8
img
🌹👸....✍️ #हजार होंगे हम #जैसे ‌‌ हजार #होगे हमसे अच्छे पर उन #हजारो में हमें #मत ढूंढना क्योंकि #हम अपनी #गिनती एक में #रखते है #हजारो में नहीं 🌹🌹 __________________________✨____
commentcomment
4
img
❤️रिश्ते में बांधू तो वो... मेरा कोई नही सांसों से जोडू...तो धड़कन है मेरी❤️
commentcomment
1
img
❤️🥀अगर हम सच में #जीवन मे कुछ करना चाहते हैं तो हमें रास्ते मिलते हैं और यदि हम कुछ भी नहीं करना चाहते हैं तो हमें बहाने मिलते हे शुभप्रभात 🙏🙏🙏🙏
commentcomment
24
img
🌹 नारी तुम शक्ति हो .... शिव रूपा शक्ति या श्रद्धा-भक्ति हो.... तुम सृष्टि निर्मात्री हो.... माता हो, जननी हो या ममता की प्रतिमूर्ति हो.... प्रिया-प्रेयसी, जीवन-संगिनी या सहधर्मिणी हो.... नारी तुम प्यार हो, विश्वास हो .... टूटी उम्मीदों की आस हो.... नारी तुम हर घर की श्वास हो... तुम सुने आँचल की आवाज़ हो... नारी तुम खुशियों का संसार हो... मानव जीवन का गुलज़ार हो ... नारी तुम प्रेम का अंगार
commentcomment
18
img
गुलाबी काग़ज़ पर.. वर्षों पहले लिखी ’माँ’ की एक चिट्ठी ही.. मेरे हिस्से आई, जब भी खोलती हूँ पूरी कहा पढ़ पाती हूँ। ”तुम्हारी अम्मा” पर आकर ठहर जाती हूँ। उसे चूमती हूँ, दुलराती हूँ, माँ के आंचल की #खुशबू पा एकाकीपन से दुनियाँ की भीड़ मे लौट आती हूँ।।
commentcomment
8
img
हमारी सभी अंगुलियां लंबाई में बराबर नहीं होती हैं, किन्तु जब वे मुड़ती हैं तो बराबर दिखती हैं..!! इसी प्रकार यदि हम किन्हीं परिस्थितियों में ‌‌ थोड़ा सा झुक जातें है ‌ या तालमेल बिठा लेते हैं तो ज़िन्दगी बहुत आसान व् आनंदित हो जाती है। शुभप्रभात 🙏🙏🙏🙏🙏
commentcomment
83
create koo