koo-logo
backKoo
जयशिव शंकरा
comment

More Koos from this user

dropdown-menu
#25जून #1975भारतीय इतिहास का सबसे काला दिन। आज हि के दिन लोकतांत्रिक मूल्यों को रौंदा गया था, 25 जून1975 से 21 मार्च 1977 तक, 21 महीने तक भारत में आपातकाल घोषित था। तत्कालीन राष्ट्रपति फ़ख़रुद्दीन अली अहमदने भारतीय प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी के कहने पर भारतीय संविधान की धारा 352 के अधीन आपातकाल की घोषणा कर दी। स्वतंत्र भारत के इतिहास में यह सबसे विवादास्पद और अलोकतांत्रिक काल था।
comment
dropdown-menu
समय परिवर्तनशील होता है, वरना किसको पता था कि गुंगे भी भजन-कीर्तन कर सकते हैं.
comment
dropdown-menu
सुप्रभातम् प्रियजनों वैसे तो विश्व के सबसे बड़े “महागठबंधन“का निर्माण संविधान व देश बचाने के लिए किया गया था, और महागठबंधन ने पूरा प्रयास भी किया. पर कोरोना नामक वैश्विक महामारी से देश की जनता को बचाने के लिए “महागठबंधन“ के किये गये सभी प्रयासों को भी याद किया जाएगा. काश देश व संविधान से ऊपर देश की जनता की जिन्दगियां महत्वपूर्ण होती तो शायद आज कुछ और ही परिस्थितियां होती.
comment
1
dropdown-menu
वैसे तो हमारे पुर्वजों ने हमेशा मंदिरों को टुटते-लुटते हुए देखा है, पर हमारे ५०० वर्षों के लंबे संघर्ष के बाद मंदिर के पुन:र्निर्माण का सौभाग्य प्राप्त हुआ है, हमारी छोटी सी गलती सब-कुछ ध्वस्त कर सकती है, इसलिए हमें परिवर्तन नही , हमें पुनः निर्माण के लिए सतर्क रहने की आवश्यकता है। “जयश्रीराम“
comment
13
dropdown-menu
सुप्रभातम् आप सबका दिन मंगलमय एवं शुभ हो, “जयश्रीराम“ “धर्म और कर्म दोनों एक ही सिक्के के पहलू है दोनो के बिना जीवन का कोई भी उद्देश्य पूर्ण नहीं हो सकता“
comment
dropdown-menu
सुप्रभातम् सभी का दिन मंगलमय एवं शुभ हो *जो अपने धर्म व संस्कृति की रक्षा नही कर सकता, भविष्य में उसका वजूद मिटना तय है* “जयश्रीराम“
comment
2
dropdown-menu
गलवान घाटी में शहीद हुए सभी वीर जवानों को श्रद्धांजलि.
comment
41
dropdown-menu
पहले भी आसूरी शक्तियां यज्ञ, हवन व पूजा में विघ्न डालती थी और आज भी . बस जरूरत ईन असूरों को पहचानने की और उनके मंसूबों को नष्ट करने की.
comment
2