koo-logo
BackbackKoo - Paramjeet RajputGo to Feed
जब सब सो रहे थे हम जाग रहे थे किसी की याद में नहीं जिम्मेदारियों में जाग रहे थे इतना छोटा नहीं था मुकाम हमारा कि कुछ रात जागने से काम चल जाता, अगर आंख लग भी गई तो हमारे हौसले भाग रहे थे!!!
commentcomment

More Koos from Paramjeet Rajput

राइट
commentcomment
बेटी को चाँद जैसा मत बनाओ कि हर कोई घूर कर देखे ,,, बेटी को सूरज जैसा बनाओ ताकि घूरने से पहले नजरे झुक जाए !!!
commentcomment
हर लड़की नहीं चाहती कि १८ वर्ष की उम्र के बाद उसकी सादी हो ,,,. कोई अपने देश के लिए भी कुछ करना चाहती हैं !!!
commentcomment
पैरा ऐस . अफ. बैजेस
commentcomment
🤗
commentcomment
बी
commentcomment
किसी भी पेड़ के कटने का किस्सा न होता .. अगर कुल्हाड़ी के पीछे लकड़ी का हिस्सा न होता .............!!!!🙏
commentcomment
create koo