koo-logo
koo-logo
मणिपुर में कर्नल विप्लव की हत्या राज्य व केंद्र सरकार से गंभीर प्रश्न करता है ।अल्प क्षेत्रफल मणिपुर में भी यदि यह सतर्कता की चूक है तो क्यों न यह माना जाय कि पब्लिक सेक्टर की एजेंसिया स्वभाव से कई बार लापरवाह हो जाती है । मणिपुर का क्षेत्रफल इतना सीमित है कि हर पत्ते कि पहचान कि जा सकती है। हर गुट वर्ग या समर्थन के संदिग्धों को ठोका जा सकता है केंद्र सरकार समन्वय ,संसाधन का प्रहार करे।
commentcomment
0

More Koos by this user

img
@mishrarajesh

HomoeoCare

कोविड सेकेंड वेव में योगी सरकार द्वारा किए गए पुख्ता नियंत्रण मानदंडों आज की तीसरी वेव को स्वतः नियंत्रित करने लगा है।साधुवाद की पात्र है यू पी सरकार एवम पूरी स्वास्थ्य सेवा में समर्पित सभी कर्मचारी।
commentcomment
0
img
@mishrarajesh

HomoeoCare

चुनावी मीडिया दुकानें सज चुकी है खूब मुह नोचौवल शुरु है।एक से एक थेथरोलॉजी देखने सुनने को मिल रही है।ये नशा ऐसा है कि टी वी बरबस खुल ही जाती है और दे जाती है पहले से ज्यादा उलझन ,क्रोध और बेबसी।एक से बढ़कर एक घाघ, उज्जड्ड पूरी बेशर्मी से अपना स्वार्थ परोसने में अपनी तथाकथित काबिलियत रेल ठेल रहे हैं।आम जनता इस मदारी मीडिया के टी आर पी जादू में खूब उलझ रही है ।धंधा ए समाचार पूरी तेजी पर है।
commentcomment
0
img
@mishrarajesh

HomoeoCare

अराजकता करने ,सहने, पोषित करने, का शिष्टाचार भी लोग, सरकार, मीडिया एवम न्यायपालिका भी जीते है।पिछले एक वर्ष मे शाहीन बाग , लालकिला तक उपद्रवियों का नंगा नाच, दिल्ली के सीमावर्ती सड़कों को रोकने का लोक अपकार से लेकर फिरोजपुर में विश्व के सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री के जीवन को जोखिम में डालने का कांग्रेस की अगुवाई में खालिस्तानी, पाकिस्तानी प्रयास इसी की बानगी है।इस अराजक टूल किट को डीकोड करें ।
commentcomment
0
img
@mishrarajesh

HomoeoCare

कांग्रेस से आत्म आलोचन या आत्म चिंतन की उम्मीद करना अब बेमानी है क्योंकि इस कांग्रेस से भारतीय और राष्ट्रीय तत्व का लोप होचुका है।अब यह स्वार्थपरक ,लूट के आकांक्षी, और विध्वंसक तत्वों के गिरोह का राजनैतिक बैनर बन गया है।पंजाब की घटना ने इस विश्वास को पुख्ता कर दिया है।अब और भ्रम ना पाले देश।रोग जब विकृति हो जाय तो सर्जरी आवश्यक हो जाती है।राष्ट्र रक्षा में बड़े सर्जरी की जरूरत है।
commentcomment
0
img
@mishrarajesh

HomoeoCare

वैचारिक रूप से बिखराव संस्कारिक रूप से मिशनरियां, पाकिस्तानी, खालिस्तानी संस्कार व्यवहार और चाईनीज कूटनीति की सूत्रधार कांग्रेस जिस तरह राष्ट्र घाती अपराधिक गतिविधियों की ओर बढ़ रही है वह राष्ट्र के लिए गंभीर खतरा है।दूर भविष्य तक सत्ता की शून्य संभावनाओं को देख कर वह अ ति व्यग्र है।सबसे दुःख की बात भूपेश बघेल जैसे मूल मिट्टी से जुड़े नेता भी जब सच से आंख चुराने लगे तो जाने जमीर बिकाऊ हो गया है।
commentcomment
0
img
@mishrarajesh

HomoeoCare

लोकप्रिय प्रधानमंत्री के जीवन को जिस तरह पंजाब की कांग्रेस की सरकार जो तथाकथित गांधी परिवार यानी क्रिश्चियन मिशनरी परिवार के रिमोट से चल रही है ने खतरे में डाला इससे यह प्रमाणित हो गया की कोंग्रेस पूरी तरह से खालिस्तानी ,पाकिस्तानी एवम मिशनरियां तत्वों के चंगुल में पूरीतरह जकड़ चुकी है।यह विष्फोटक परिस्थिति प्रधानमंत्री या बी जे पी मात्र के लिए नहीं यह पंजाब समेत पूरे राष्ट्के लिए गंभीर खतरा है।
commentcomment
0
img
@mishrarajesh

HomoeoCare

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ओमिक्रॉन्न संक्रमण को कोविड सुनामी की संज्ञा देते हुए चेतावनी जारी की है कि स्वास्थ्य व्यवस्था फिर से ध्वस्त हो सकती है।जाहिर है कोरॉना का पुनः उभार विशेष सावधानी की मांग करता है।इसके नियंत्रण के सभी प्रयास होने चाहिए सरकारी भी और स्वयं से भी ।बिना किसी दह शत के, क्योकि पिछली बार के अनुभव यही बयान करते है किहमारी लापरवाही बरतने की आदत ही बड़ी परेशानी का कारण बनी।
commentcomment
0
img
@mishrarajesh

HomoeoCare

कानपुर ,कन्नौज ,जैन, इत्र प्रकरण में तथाकथित समाजवादी प्रवचन चल रहा है कि गलती से छापा दूसरे व्यापारी के यहां प ड गया जो बी जे पी से संबंधित है ना हो तो उसकी मोबाइल कि जांच कर लो। यह कहते हुए भी नेताजी के चेहरे पर बारह ही बज रहा है।नेताजी देश प्रदेश आपकी फेश रीडिंग कर रहा हैऔर सच्चाई भी समझ रहा है।जनता समझ रही है कि जिसने नोट रखवाया उसने मोबाइल पर ढोंग करना भी सिखाया ।यह सब बुद्धि का अपच है।
commentcomment
0
img
@mishrarajesh

HomoeoCare

पंजाब की घटनाओं को सामान्य आपराधिक घटना या खतरे कि घंटी तक आकना आत्म घा ती भूल होगी।सामान्य तौर पर इसे आई एस आई की करतूत मात्र मानना भी बड़े षड्यंत्र से आखे चुराने जैसी गलती होगी। यह आई एस आई के सहयोग से खालिस्तानियों द्वारा किये जा र हे छोटे छोटे टेस्ट फायर है।अवश्यंभावी है कि उच्च एजेंसियों की जांच में इसके सूत्र ब्रिटेन ,कनाडा,व अमरीका में बैठे खालिस्तानी तत्वों से हो। भ्रम न पाले सरकार ।
commentcomment
0
img
@mishrarajesh

HomoeoCare

पंजाब में एकके बाद एक हो रही घटनाओ के पीछे राजनैतिक द्वेष स्वार्थ हो ना हो लेकिन हमें यह नहीं भूलना होगा कि किसान आंदोलन के आ ड में खालिस्तानी षड्यंत्र के पूरी तरह विफल हो जाने की खीझ जरूर हो सकती है।वैसे भी जब जब पंजाब में कांग्रेस की सरकार कुछ दिन रह जाती है तब तब खालिस्तानी गतिविधियां बढ़ती रही है।वोट ,सत्ता या पार्टी पॉलिटिक्स से अलग हो केंद्र सरकार तुरंत अलर्ट मोड में प्रभावी कदम उठाए।
commentcomment
0
create koo