koo-logo
BackbackKoo - Professor P K BajpaiGo to Feed
@Professor_P_K_Bajpai

Professor Of Physics In Central University

Moredropdown-menu
मित्रो, सोचिए यदि पाकिस्तान नही बना होता तो आतंकवादियों की सारी नापाक गतिविधियां भारत मे हो रही होती। भगवान जो भी करता है, अच्छा ही करता है
commentcomment

More Koos from Professor P K Bajpai

Moredropdown-menu
@Professor_P_K_Bajpai

Professor Of Physics In Central University

क्या कश्मीर मैं गैर कश्मीरियों पर हुई हिंसा बड़ी साजिश है।
commentcomment
Moredropdown-menu
@Professor_P_K_Bajpai

Professor Of Physics In Central University

भगवान श्री गणेश सभी की रक्षा करे
commentcomment
Moredropdown-menu
@Professor_P_K_Bajpai

Professor Of Physics In Central University

अब सोचने का नहीं करने का वक्त है . विकसित भारत चाहिए तो सब को साथ आना होगा
commentcomment
Moredropdown-menu
@Professor_P_K_Bajpai

Professor Of Physics In Central University

औरतै सिर्फ बच्चे पैदा करने के लिए है , यह घृणित सोच तालिबान ने घोषित कर दी है. अब भी तालिबान अच्छा है.
commentcomment
Moredropdown-menu
@Professor_P_K_Bajpai

Professor Of Physics In Central University

किसी प्रदेश की विधान सभा मैं धर्म विशेष को कक्ष आवंटित करना कितना जायज है। विशेष रूप से जब देश का विभाजन ही धार्मिक आधार पर किया गया हो।
commentcomment
Moredropdown-menu
@Professor_P_K_Bajpai

Professor Of Physics In Central University

असल तालिबानी सोच पर लगा वर्क अभी से निकलने लगा. पुरे विश्व के मुसलमानो की ठेकेदारी ले रहे है. कश्मीर पर बोलेगे. अफगानिस्तान मई सरिया के नाम पर महिलाओ एवं बच्चो पर जो कत्लगारिद किया उस पर तो बोल ले. दुनिया के लोग खामोश क्यों है.
commentcomment
Moredropdown-menu
@Professor_P_K_Bajpai

Professor Of Physics In Central University

टोक्यो पैरालंपिक मैं प्रदर्शन ओलंपिक से भी बेहतर। भारत खेलो की महाशक्ति की तरफ अग्रसर
commentcomment
Moredropdown-menu
@Professor_P_K_Bajpai

Professor Of Physics In Central University

तालिबान की सोच कभी बदल नहीं सकती
commentcomment
Moredropdown-menu
@Professor_P_K_Bajpai

Professor Of Physics In Central University

शून्य सा आहसास जब अपनों के बीच पसारने लग जाए अपनी थुलथुल बाहे। समझ लेना रिश्तों की थाली मैं परस गया पक्का स्वार्थ आंसू अधकचरे शब्द बौने से लगने लगे भांप जाना जहरीली हवा का एक झोंका तैर रहा यही कहीं आस पास।
commentcomment
create koo