koo-logo
koo-logo
किस हद तक जाना है ये कौन जानता है, किस मंजिल को पाना है ये कौन जानता है, दोस्ती के दो पल जी भर के जी लो, किस रोज़ बिछड जाना है ये कौन जानता है.!
commentcomment
0

More Koos by this user

@Gulshansrma

Accountant

कलयुगी दुनिया हैं साहब उसकी क़दर नहीं होती,जो सच में रिश्ते की कद्र करता हैं, कद्र उसकी होती हैं जो सबसे ज़्यादा दिखावा करता हैं..! #chardhamyatra2022
commentcomment
0
@Gulshansrma

Accountant

जिन्हें ज्ञान है , उन्हें घमंड कैसा ... जिन्हें घमंड है , उन्हें ज्ञान कैसा...... #gyanvapifiles
commentcomment
0
@Gulshansrma

Accountant

हैसियत का कभी अभिमान मत करना, उड़ान जमीन से शुरू होकर जमीन पर ही समाप्त होती है...
commentcomment
0
@Gulshansrma

Accountant

मनुष्य की सुंदरता की पहचान उनके रूप,चलन व बात करने के तरीके से नहीं बल्कि उनके स्नेह, परवाह और योगदान से होती है।
commentcomment
0
@Gulshansrma

Accountant

लोग हमारे बारे मे अच्छा सुनने पर शक करते हैं लेकिन बुरा सुनने पर तुरंत यकीन कर लेते हैं.
commentcomment
0
@Gulshansrma

Accountant

कुछ दर्द ऐसे होते हैं, जिनका दायरा सिर्फ खुद तक सीमित होता है.. वो किसी और के साथ बांटे नहीं जा सकते....
commentcomment
0
@Gulshansrma

Accountant

समय और भाग्य दोनो ही परिवर्तनशील है इस पर किसी को अहंकार नहीं करना चाहिए....
commentcomment
0
create koo