koo-logo
koo-logo
img
@Gopikrishna_Soni

Engineer( PHED)1973-2006 Philospher AWGP Shishy Hobby @

समय की नजाकत को देखते हुवे कुछ भगवान के पार्षद धरती पर अत्याचार की आँधियों का मुकाबला करने, निर्दोष सच्चे मानवों को राहत देने धरती पर आते है! ये सीधे भगवान की आज्ञा में रहने वाले ( पद का मोह नहीं रखने वाले) होते हैं! विशेष शक्तियों के साथ आते हैं तथा अंश अवतार के आदेश पूरे करते हैं!ऐसे ही थे योगेश्वर गुरू govindsinhji जिनके अमर बलिदान (3 पीढ़ियों का) दुनिया के इतिहास मे मिशाल नहीं!
commentcomment
0

More Koos by this user

img
@Gopikrishna_Soni

Engineer( PHED)1973-2006 Philospher AWGP Shishy Hobby @

क्या इस्लाम का जन्म हिन्दू पद्धति के विरोध के रूप में हुवा ? जिस हिन्दू विचारधारा में मानवमात्र तो क्या अपने २ इष्ट देव ( भगवान के स्वरूप )को जिस रूप में पूजना चाहे :: पूरी छूट ! घर के जितने लोग वो अपनी मर्जी के स्वरूप को पूजे ! किसी को न पूजना तो वो भी छूट ! इसके विराट स्वरूप में स्वतंत्रता के साथ जीवन यापन परिवार पालन पर्यावरण संरक्षण +++ ( all under one roof ) इंसान तो क्या पशु पक्षी पेड़ पौधे kisi
commentcomment
0
img
@Gopikrishna_Soni

Engineer( PHED)1973-2006 Philospher AWGP Shishy Hobby @

इतिहास के वो अँधेरे जिन्हे मलीपान्ने से ढक कर उनके असली रूप को ढक कर शैतान से देवता बना दिया गया !
commentcomment
0
img
@Gopikrishna_Soni

Engineer( PHED)1973-2006 Philospher AWGP Shishy Hobby @

जो जन्म से भारतवासी है उनके डीएनए में भी एकरूपता मिलेगी ! अतीत में क्या हुवा और क्यों हुवा ये सभी जानते है ! सारा संसार भी भारतीय उप महाद्वीप के देशों में रहने वालो को एक ही नाम से जानता है !कि ये सब हिन्दू है ! वो आप में से कोई नहीं था जिसने जुल्मो सितम किये बल्कि ये आपके पूर्वजो की मज़बूरी थी कि उन्हें विवश होकर पूजा पद्धति बदलनी पड़ी ! कोई आपको बदलने के लिए नहीं कह रहा ! आप इसी देश में जन्मे !’अधिकांश देश के प्रति निष्ठा रख ईमान निभाते ! आपका जीवन स्तर अच्छा बनेगा ! आने वाली पीढ़िया
commentcomment
0
img
@Gopikrishna_Soni

Engineer( PHED)1973-2006 Philospher AWGP Shishy Hobby @

Maf kijiyega sabhi sajjan ! Jante sab hai ki hakikat kya hai ? है duniya janti hai ki sabse prachin sabhyta sanskriti Bharat ki hi hai . Iske avshesh duniya ke kone 2 me milte rahe hai. Ye koi nai bat nahi .Jo tha wo hi to samne bhi aa raha hai. किसी को बदलने को कोई कहता भी नहीं ! कोई कहे मेरे दादाजी जिला कलेक्टर थे :: wo bat अपनी जगह :: पर आज कोई क्या है वो ही काम आता है . इन दिनों रूस यूक्रेन युद्ध २४ फेब्रुअरी २२ से चल रहा है जो विश्व शांति ही नहीं उसके वजूद पर संकट ! दोनों देश ईसाई
commentcomment
0
img
@Gopikrishna_Soni

Engineer( PHED)1973-2006 Philospher AWGP Shishy Hobby @

I wish to convey the best wishes on this auspicious occasion of Akshay Tritiya to all my national brothers & sisters . Wish that the basic unit of the society & nation have APNAYIT for each other ! Healthy family means life with each other digesting small differences through the love _ sacrifice _ seva bhav _ respect for old _ etc. One who is satisfied in serving the family & with a very few for himself mean U should imagine that your worship place is your home itself ( not palace ) 🙂
commentcomment
0
img
@Gopikrishna_Soni

Engineer( PHED)1973-2006 Philospher AWGP Shishy Hobby @

राष्ट्र भाषा तो अपनी जगह पर रहेगी ही ! क्या संपर्क भाषा या संपर्क बोली के रूप में इसे दक्षिण के राज्यों में प्रयुक्त करने बोलने में कोई परेशानी है ? क्या दक्षिणी राज्यों को रोजगार के अवसर बढ़ाने तथा पूरे भारत का पर्यटन करने में ( खास कर ४ धाम न्यूज़ + १२ ज्योतिर्लिंग + अन्य पर्यटन / धार्मिक स्थल घूमने में संपर्क बोली जानने की सुविधा नहीं मिलनी चाहिए ! साउथ के VIP तो बिना कष्ट के सब जगह घूम लेते है साउथ की आम जनता को कब मिलेगी ये सुविधा ! उत्तराखंड के चारो धाम उनके लिए भी उतने ही पवित्र है
commentcomment
0
img
@Gopikrishna_Soni

Engineer( PHED)1973-2006 Philospher AWGP Shishy Hobby @

अपने देश के लोग अगर आपस में बातचीत नहीं कर पाते तो इससे बड़ी विडंबना क्या होगी ! २०१६ में उत्तराखंड के चारधाम यात्रा में केदारनाथ के पास सोनप्रयाग में रात्रिविश्राम के लिए रुकना था ! ४ महिलाए दक्षिण भारत से थी जो हिंदी इंग्लिश नहीं जानती थी ! केवल अपने प्रान्त की भाषा जानती ! वारिस हो रही थी ! मै सपत्नीक था ! हमारे UID के आधार पर उन ४ महिलाओ को रात्रि विश्राम मिला ! अभी अप्रैल २०२२ में तिरुपति बालाजी यात्रा में ये ही देखने को मिला ! ना हिंदी ना इंग्लिश ! केवल अपनी लोकल भाषा ! क्या वे हमारे
commentcomment
0
img
@Gopikrishna_Soni

Engineer( PHED)1973-2006 Philospher AWGP Shishy Hobby @

भारत के अन्नदाता तथा उसके परिवार की कृषि में की गयी हाड़तोड़ म्हणत तथा प्रकृति की मार से फसलों को बचाने तथा मौसम की मार झेलते उपज का वाजिब मूल्य उसे समय पर मिले इसकी पुख्ता व्यवस्था के लिए सरकार इंतजाम करे !
commentcomment
0
img
@Gopikrishna_Soni

Engineer( PHED)1973-2006 Philospher AWGP Shishy Hobby @

संपर्क बोली :: ये बड़ी २ सुपरफास्ट वातानुकूलित ट्रेनों को जोड़ने वाली लिंक ट्रेनों की तरह है !१९६० के आसपास का वायरस अभी भी जिन्दा है तथा वक़्त बेवक़्त अपना सियासी रूप दिखाता रहता है ! मुसीबत में होते है पर्यटक ! दक्षिण भाषी राज्यों को भारत के अन्य भागो में रोजगार तो दूर की बात तीर्थ यात्राओं में भी कितनी पीड़ा भोगनी पड़ती है वो भी अपने ही देश में जब साधन संपन्न भी उनकी अपनी भाषा के अलावा ( संपर्क बोली के आभाव में ) कोई मदद नहीं कर पाता ! ये कैसी त्रास्दी ! बिना मतलब की ? आखिर ६२ साल
commentcomment
0
img
@Gopikrishna_Soni

Engineer( PHED)1973-2006 Philospher AWGP Shishy Hobby @

एक सविनय निवेदन आंध्र प्रदेश कर्णाटक केरल तमिलनाडु +++ की सम्मानीय जनता तथा नेतृत्व से :::: बार २ हिंदी को राष्ट्र भाषा मानने से इंकार करना :: मेरी समझ से १९६० के हिंदी विरोध कर राजनीती करने का हथियार है ! भारत दर्शन निमित कई बार इन राज्यों में जाता रहा हूँ ! वहाँ के लोगो को न अंग्रेजी आती है न हिंदी :: बाहरी लोगो को संवाद में परेशानी ! राष्ट्र भाषा का ऊँचा दर्जा भले न दे संपर्क बोली बना कर महारानी की जगह राजघराने की दासी का दर्जा तो दे ! इन राज्यों के लोग रोजगार के लिए बहार
commentcomment
0
create koo