koo-logo
backKoo
@रंजन_कुमार_मिश्र

अवकाशप्राप्त बैंक क्लर्क

dropdown-menu
बटु बिस्वास अचल निज धरमा ।
comment

More Koos from this user

dropdown-menu
@रंजन_कुमार_मिश्र

अवकाशप्राप्त बैंक क्लर्क

टिकैतजी का भारत बन्द बेअसर रहा, क्योंकि उनके साथ असली किसान नहीं हैं, लेकिन वे देश का बहुत नुकशान कर रहे हैं । उनके साथ किसान नहीं हैं - यह बताने के लिए एक असली किसानों का भारत बन्द होना चाहिए । टिकैत के विरोध में जो बन्द होगा वह स्वतः स्फूर्त होगा और उनको अपनी स्थिति समझ में आएगी । क्या आप भी ऐसा सोचते हैं ?
comment
dropdown-menu
@रंजन_कुमार_मिश्र

अवकाशप्राप्त बैंक क्लर्क

हमारे प्रिय प्रधानमंत्री ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के अपने २२ मिनट के संबोधन में विश्व के साथ साथ भारत की चिंताओं को भी रेखांकित कर दिया । उन्होंने विश्व शांति की दिशा और उसमे अपने योगदान की भी चर्चा की और इस राह की अड़चनों पर शालीनता से टिप्पणी की । ये सभी तथ्य उनके हृदय में हमेशा विद्यमान रहते हैं - यह बात इसलिए प्रमाणित होती है कि उन्होंने अपना भाषण पढ़ा नहीं था । उन्हें कोटिशः प्रणाम ।
comment
dropdown-menu
@रंजन_कुमार_मिश्र

अवकाशप्राप्त बैंक क्लर्क

स्वर्गीय पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जन्मजयंती पर मेरे श्रद्धा सुमन ।
comment
dropdown-menu
@रंजन_कुमार_मिश्र

अवकाशप्राप्त बैंक क्लर्क

हमारे प्रिय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्रभाई मोदी आज भारतीयों के आशा-दीप हैं, विश्वशांति के अग्रदूत हैं । हम कदापि इनके नेतृत्व से वंचित नहीं होना चाहते । इनके रूप में भारत का भाग्योदय हुआ है । ईश्वर इन्हें मृत्युंजय होने का आशीष दें । इन्हें जन्मदिन की अशेष बधाइयाँ ।
comment
dropdown-menu
@रंजन_कुमार_मिश्र

अवकाशप्राप्त बैंक क्लर्क

भाषा व्यक्ति को हृदय से जोड़ती है । यह एक संयोग रसायन है । इसके बिना कोई समूह अंदर से एकजुट नहीं हो सकता । स्वतंत्रता आंदोलन में पूरे देश को जोड़ने की जरूरत थी तो हिंदी ने ही वह भूमिका निभाई थी । १९५० में संविधान लागू हुआ तो सिर्फ एक राज्य ने हिंदी का विरोध किया और इस विना पर नेहरूजी ने हिंदी के साथ अंग्रेजी को भी १० वर्ष के लिए रहने दिया ।आज आरक्षण की तरह राजभाषा भी देश की समस्या बन चुकी है ।
comment
dropdown-menu
@रंजन_कुमार_मिश्र

अवकाशप्राप्त बैंक क्लर्क

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि *उसका उद्देश्य चरित्र में सुधार और पीड़ित की देखभाल करना है ।* उसकी मजबूरी संविधान है । क्या उसे हिंदुओ की पीड़ा नहीं दिखती ? क्या उसे अल्पसंख्यक की परिभाषा नहीं मालूम ? क्या न्याय में विलंब अन्याय की श्रेणी में नहीं आता ? क्या कोर्ट सर्वसुलभ है ? क्या वह अपने घोषित कर्तव्यों के पालन में असमर्थ नहीं ? क्या पीड़ितों की पीड़ा दिनोदिन बड़ी नहीं हो रही ? ऐसे अनेकों प्रश्न हैं ।
comment
dropdown-menu
@रंजन_कुमार_मिश्र

अवकाशप्राप्त बैंक क्लर्क

जन्माष्टमी की आप सभी कू परिवार के सदस्यों को मेरी हार्दिक शुभकामनाएं ।
comment
1
dropdown-menu
@रंजन_कुमार_मिश्र

अवकाशप्राप्त बैंक क्लर्क

एन डी टी वी ने प्रश्न पूछा है कि #महाराष्ट्र के महाभारत के लिए कौन जिम्मेदार है?# ☺ गौर करें कि बीज बोया, अंकुर फूटा, फूल आये और जब फल दिखने लगे तो पूछते हैं कि कौन जिम्मेदार है । कितना भोलापन है, इन कुटिल लोगों का !
comment
dropdown-menu
@रंजन_कुमार_मिश्र

अवकाशप्राप्त बैंक क्लर्क

बस कि मुश्किल है हर बात का आसां होना । आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसान होना । - इंसान होने के इस मुश्किल काम में हम सभी बहादुरी और हिम्मत से जुड़े रहें । विश्व मानवता दिवस की अशेष शुभकामनाएं ।
comment
dropdown-menu
@रंजन_कुमार_मिश्र

अवकाशप्राप्त बैंक क्लर्क

आज स्वतंत्रता दिवस की ७५वीं वर्षगांठ पर सभी को शुभकामनाएं । हम सभी अपने तंत्र का सम्मान करें - यह प्रयास भारत को और समृद्ध करेगा ।
comment
create koo