koo-logo
backKoo
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

dropdown-menu
श्रीराधे गोविंदमादिपुरुषं हरेकृष्ण
comment

More Koos from this user

dropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

संसार जो आप देख रहे हो ” शून्य” है क्या ?या आपको सभी साकार जिसका कुछ न कुछ आकार है स्वतः दिखाई देता है , जब सबकुछ दिखाई देता है तो हम ” शून्य ” कैसे मान ले । निराकार क्यों माने ।। उसी तरह किसी वस्तु को बनानेवाला निर्विशेष निराकार कैसे हो सकता है ।नहीं हो सकता तो फिर संसार की सृष्टि कर्त्ता निर्विशेष,निराकार,” शून्य ” कैसे हो सकता है । हाँ,अलग वात है की उनका तेज ज्योति स्वरूप ब्रह्म, शून्य
comment
1
dropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

💐💐पण्डिताः सर्व दर्शना ----💐💐💐 ब्रह्माण्ड में श्रीकृष्ण से अलग क्या है ? जो मैं किसी को भगवान का अंश ना मानू 💐
comment
dropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

शुभसँध्या दोस्त कू मित्रों श्रीराधेकृष्ण राधे💐 आप सबका समय मंगलकारी हो श्रीराधागोविंद सुख समृद्धि शान्ति दें💐 हरेकृष्ण हरेकृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे 💐 💐💐श्रीराधे जय राधे राधे💐💐💐
comment
1
dropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

Doughter day दोस्त कू मित्रों को हार्दिक बधाई। व शुभमङ्गल। कामनाएँ💐💐💐
comment
dropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

आज हमारे दोस्त का कू हड़ताल है क्या ?
comment
dropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

शुभप्रभात श्रीराधा गोविंद हरेकृष्ण💐💐💐 श्रीराधेकृष्ण राधेश्याम हरेकृष्ण हरेराम💐💐 शुभमङ्गल हो दोस्त💐सभी प्रिय कू मित्रों को हर पल दिन रात मिले खुशियों का अम्बार अपने प्रेमियों के सँग खुशहाल विताएँ जिंदगी हरपल 💐रामराम सबको राधे राधे💐💐💐
comment
2
dropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

हम जब भी आपस में बातचीत करते है , एक दूसरे पर विश्वास करते है, प्रत्यक्ष एक दूसरे को कहते है तो उसमें गोल मटोल या अप्रत्यक्ष शब्दों का प्रयोग नहीं करते क्योकि उसमें तीसरे का कोई हक नहीं बनता , तीसरे को तब शामिल किया जाता है जब आपस में एक दूसरे पर पूर्ण भरोसा नहीं रहता ।सामिलआपस की विश्वास को धक्का लगता है, कमजोड़ होता है। इसलिए दोनों को आपस में वातचित विना तीसरे को जोड़े हल करना चाहिए।शुभरात्रि 💐
comment
2
dropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

हरेकृष्ण हरेकृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे 💐 हरेराम हरेराम रामराम हरे हरे 💐💐💐
comment
4
dropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

शुभप्रभात दोस्त💐 कू मित्रों दोस्त💐 💐💐 ”Radhe ” श्रीराधे राधे💐 श्रीराधेकृष्ण गोविंद हरेकृष्ण💐💐💐💐 💐रामराम सुबह का नमस्कार श्रीराधेश्याम💐
comment
1
dropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

आपस में कथनी -करनी में बराबरी होनी चाहिए जो कहो उंस पर कायम रहो ताकि आपस का विश्वास ,सुदृढ पक्का बनी रहे । ” Radhe ”
comment
2
create koo