koo-logo
BackbackKoo - आर्य बिन्देश्वर राय आमात्यGo to Feed
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

Moredropdown-menu
आपस में कथनी -करनी में बराबरी होनी चाहिए जो कहो उंस पर कायम रहो ताकि आपस का विश्वास ,सुदृढ पक्का बनी रहे । ” Radhe ”
commentcomment
2

Comments

Moredropdown-menu
img
@anupama_patwari1

कवयित्री,लेखिका,शायरा

निर्विवाद सत्य
commentcomment

More Koos from आर्य बिन्देश्वर राय आमात्य

Moredropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

अतः श्रीकृष्णनामादि न भवेद ग्राह्यमिन्द्रियै:। सेवोन्मुखे हि जिह्वादौ स्वयमेव स्फुरत्यद:।। अर्थात-कोई भी व्यक्ति अपनीदुसित इंद्रियों के द्वारा श्रीकृष्ण के नाम, रूप, गुण, तथा उनकी लीलाओं की दिव्य प्रकृति को नहीं समझ सकता।उनको समझने के लिएभगवानकी दिव्य सेवा से पूरित होना चाहिए । वो अनुभवी आत्मा ही आत्मसंयमी होता है, उसे संसारी विद्वता से कोई लेनादेनानहीं होताक्योंकि वहश्रीकृष्णकी शरणमेजा चुकाहै
commentcomment
Moredropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

ज्ञानविज्ञानतृपतात्मा कूटस्थो विजितेन्द्रियः । युक्त इत्युच्यते योगी समलोष्ट्राष्मकाच्चन:। अर्थात-वह व्यक्ति आत्म-साक्षात्कार को प्राप्त योगी कहलाता है, वह अपने अर्जित ज्ञान तथा अनुभूति से पूर्णतया सन्तुष्ट रहता है ।वह जितेंद्रिय संसार की सभी बस्तुओं को -चाहे कंकर, पत्थर या सोना ही क्यों न हों एकसमान देखता है उसमें कोई भेदभाव नहीं रहता ।उंस अनुभवी को संसारी विद्वता से कोई लेना देना नहीं रहता ।💐
commentcomment
Moredropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

@neha7580 के विचारों को सुनें ”👉हिजड़े वो नहीं ,जो साड़ी पहनकर बाजार घूमते है , हिजड़े वो है.जो सनातनी- हिन्दू होकर हिन्दुत्वा से दुश्मनी करते है ..” https://www.kooapp.com/koo/
commentcomment
Moredropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

@Richasharma007 के विचारों को सुनें ”मेरे कृष्णा,,,,,,,,,,,,,! तुम ही हो कण कण में , जल में तू...” https://www.kooapp.
commentcomment
1
Moredropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

@iskcon के विचारों को सुनें ”वैष्णवानां यथा शम्भु: ” ऊँ श्रीराधागोविंदाभ्यां नमो नमः श्रीराधाकृष्णा गोविंदादिपुरुषं परं दैवतं तमहं भजामि ।💐💐💐
commentcomment
1
Moredropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

शुभमङ्गल प्रभात प्रिय दोस्त कू मित्रों💐 श्री राधागोविंदाभ्यां नमो नमः उससे बड़ा न कोई ईश्वरः श्रीकृष्ण: परमानन्द: स्वरूपम 💐💐💐 💐श्रीराधे राधे राधे जय राधे राधे💐💐 जय श्रीराम गोविंदादिपुरुषं हरेकृष्ण श्याम💐 हरहर महादेव शम्भु शिव भोले💐💐
commentcomment
Moredropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

#जयश्रीकृष्ण जय श्रीराधागोविंदाभ्यां नमो नमः ऊँ जय श्रीराधाकृष्णाय वासुदेवाय कृष्णाय नमो नमः जय श्रीकृष्ण हे गोलोकपति वृन्दावनधाम वासी आपको कोटि कोटि प्रणाम 💐💐💐💐💐
commentcomment
Moredropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

@sunil के विचारों को सुनें ”राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम ...” 💐💐हरेकृष्ण हरेकृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे 💐💐 💐💐हरेराम हरेराम रामराम हरे हरे 💐💐💐
commentcomment
Moredropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

#जयश्रीराम- हरेकृष्ण हरेकृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे 💐💐 हरेराम हरेराम रामराम हरे हरे 💐💐💐
commentcomment
1
Moredropdown-menu
@आर्य_विन्देश्वर_राय_अमात्य

AEO . भक्ति, श्रीमद्भगवद्गीता,श्रीमद्भागवतम-प्रचार-प्रसारक व

@Richasharma007 के विचारों को सुनें ”क़र्ज़ दोस्ती में ”चुकाने” नहीं होते....! एहसान दोस्ती में जताने नहीं होते बस सलामत रहे, ये याराना हमारा क्योकि ये रिश्ते कभी पुराने नहीं होते ”...” प्रेम प्रेमसिर्फ प्रतिदान है उजले मन की धूप, रंग फीका नहीं पड़े ,प्यार का यह रूप 💐
commentcomment
create koo