koo-logo
koo-logo
backKoo - Col Rajyavardhan RathoreGo to Feed
डाटा सामूहिक होती है व्यक्ति या वोटर अकेला। डाटा का सम्बंध कम्पयूटर से होता है आम जन को नही। लाॅटरी की टिकट बेचने वाले कूल इनामों की घोषणा करते है पर कुल इनाम एक व्यक्ति को नही मिलता। टीका अनिवार्य है पर हमारी बुनियादी जरूरत नही। अपने नाम के आगे खुद “श्री“ लगाना व्याकरण की नजर में त्रुटी है फिर अपने कर्तव्यों का रोज प्रचार करना?
commentcomment

More Koos by this user

img
@राकेश_कुमारBCDAM

Actressसुक्षम दर्शी

#काग्रेसी 2014 के बाद अपनी स्थिति को देखो और मोदीजी की देश मे स्थान को देखो। तुम शतरंज के सिर्फ एक मोहरे हो वे जो चाह रहे है वैसा तुम से करा रहे हो। इस कार्यकाल मे क्या खोये कभी सोचे पुरी काग्रेस पार्टी को मोदीजी छीन्न-भिन्न कर दिये। बचा कसर मोदीजी के इशारे पर ममता पुरा कर देगी। तुम्हारी राज माता को गली की मोनिया गाँधी बना देगे।
commentcomment
img
@राकेश_कुमारBCDAM

Actressसुक्षम दर्शी

मोदीजी राजनीति के इतने बड़े खिलाड़ी है काग्रेसी कि जहा तुम्हारी सोचने की शक्ति खत्म होती है वहाँ से वे सोचना प्रारंभ करते है। चीन भूल गया भारत को धमकाना टिकैत की धमकी का क्या हश्र होने वाला है देख लेना।
commentcomment
1
img
@राकेश_कुमारBCDAM

Actressसुक्षम दर्शी

शास्त्र कहता है- मुख से ब्राहमण भुजा से क्षत्रिय उदर(पेट) से वैश्य जंघा से शुद्र जब एक ही शरीर के सारे अंग फिर आपस मे कैसा रंक ?
commentcomment
img
@राकेश_कुमारBCDAM

Actressसुक्षम दर्शी

हिन्दू और हिन्दुस्तान अगर टुटा और बंटा है तो सिर्फ धन और पद के लोभ और लालच में । हराम के खाने वाले हरामी कहलाते है जिसका अन्त ऐसा होता है।
commentcomment
img
@राकेश_कुमारBCDAM

Actressसुक्षम दर्शी

सज्जन और दुर्जन व्यक्ति मे समाजिक अन्तर- #सज्जन पुरा जीवन समाज मे अच्छा काम किया हो पर एक गलती कर दे तो पुरे समाज मे बदनाम हो जाता है। #दुर्जन पुरा जीवन गलत काम किया हो पर अन्त मे सुधर कर अच्छा काम करने लग जाए तो लोग उनकी तारिफ करने लग जाते है। अतः मेरी नीजि अनुभव कहती है व्यक्ति मे परिस्थिति के अनुसार सज्जनता और दुर्जनता दोनो गुण होनी चाहिए। माला और भाला साथ रखनी चाहिये।
commentcomment
img
@राकेश_कुमारBCDAM

Actressसुक्षम दर्शी

#राकेश_टिकैत मोदीजी उत्पात करने की सिर्फ़ एक बार मौका देते है। उसके बाद पुरे पंख को छील देते है ताकि फरफराये नही पैर तोड़ देते है चल ना सके हाथ को अपाहिज कर देते है ताकि हाथ उठ ना सके जीभ छोटा कर देते है ज्यादा लपलपाये नही ये सब कर घर बैठा देते है। व्यक्ति की राजनीतिक लिप्सा,पिपासा खत्म हो जाती है। #वाक्य_सांकेतिक_है
commentcomment
img
@राकेश_कुमारBCDAM

Actressसुक्षम दर्शी

प्रेम कब हो जाती है पत्ता नही चलता। काग्रेस कैसे विलुप्त हो रही है कुछ पत्ता नही चल रहा।
commentcomment
img
@राकेश_कुमारBCDAM

Actressसुक्षम दर्शी

बेचारे आस्ट्रेलिया के छात्र चुनाव जीतने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रहे है पर अफसोस!!! एक बार मोदीजी आएगे सारी मेहनत को बहार कर कूडेदान मे डाल देगे।
commentcomment
create koo