koo-logo
backकू
मुझे शाहजहां के ताजमहल मनाने से ज्यादा माँझी का पहाड़ तोड़ रास्ता बनाना मोहब्बत का प्रतीक लगता है जय श्री राम 🙏🚩 ।।जय सनातन।।
img
comment
12

Comments

img
chamist
वह क्या बात है
comment
बिल्कुल सही कहा आप ने
comment
बिल्कुल सत्य कहा आपने ताजमहल तो मजदूरों ने बनाया लेकिन रास्ता तो मांझी ने ही काट कर खुद बनाया
comment
1
💙💙💙सही कहा आपने मैडम 💙💙💙
comment
Good morning जी
comment
दशरथ माँझी जी को सादर प्रणाम! परन्तु तेजोमहालय(ताजमहल)को शाहजहाँ ने नहीं बनवाया था;अकबर की रखैल मानसिंह के पूर्वजों ने बनवाया था। यह शिवमन्दिर है;इसके वास्तु से यह सिद्ध है।इसे शाहजहाँने छीना था। मुमताज की वास्तविक कब्र बुरहानपुर(मध्यप्रदेश)में है।मुमताज के मरनेपर अपनीही सुन्दरी पुत्रीको भोगनेवाला शाहजहाँ भला ऐसा निर्माण करा सकता था?जिसके अन्तःपुर(हरम) में ५००० रखैल हों,वह आदर्श प्रेमी कैसे? 👇
play
comment
Business Owner
आपकी बात से मै सहमत हूँ
comment
वो तेजोमहल है, ताजमहल नहीं
comment
मांझी की पहाड़ तोड़ कर सड़क बनाने का प्रयास सफल रहा । तभी तो मांझी का नाम भी महापुरुषों में होना था ।
comment
🍸🌹🌹🍸🌹🌹🍸 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🍸🌹🌹🌹🌹🌹🍸 🍸🍸🌹🌹🌹🍸🍸 🍸🍸🍸🌹🍸🍸🍸 🍸🍸🍸🌹🍸🍸🍸 🍸🎁😊❤☺🎁🍸
comment
1