koo-logo
koo-logo
backKoo - जैविक भारत अभियान√Go to Feed
परवाह नहीं है मुझे किसी की, कि लोग क्या कहते हैं, मुझे नजरें खुद से और भगवान से मिलानी हैं..।।
commentcomment
1

Comments

img
संसार मुसाफिरखाना है। जहां से आया वहीं जाना है। यहां मेरा कुछ दिनों का ठिकाना है। मुझे तो बस परमात्मा में खो जाना है।
commentcomment

More Koos from जैविक भारत अभियान√

img
विवाह का समय चल रहा है, निमंत्रण में भोजन की निंदा ना करे, कोई वर्षो चटनी रोटी खाता है, आपको मटर पनीर खिलाने के लिए 🙏🙏
commentcomment
2
img
न किसी से ईर्ष्या न किसी से होड़ मेरी अपनी मंज़िलें..मेरी अपनी दौड़
commentcomment
img
“समय गूँगा नहीं बस मौन है, सही वक्त पर ही यह बताता है कि वो भी बोलना जानता है” जय श्री राम🙏
commentcomment
2
img
जिंदगी बहुत कीमती है, जितनी बचा लो उतनी बढ़िया
commentcomment
img
“दुनिया वो किताब है जो कभी नहीं पढ़ी जा सकती, लेकिन जमाना वो अध्यापक है जो सब कुछ सिखा देता है” जय श्री राम🙏
commentcomment
2
img
आत्मसम्मान खोकर जो भी चीज़ मिले, वो शोहरत तो दे सकती है, मगर सुकून नहीं दे सकती.।।
commentcomment
5
img
देश के दुश्मनों के लिए भय का पर्याय, पराक्रमी स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और भारत माता के सच्चे सपूत श्री लाला लाजपत राय जी की पुण्यतिथि पर उन्हें शत-शत नमन।💐🙏
commentcomment
4
img
“जब आप संघर्ष पथ पर हों तो पीछे मुड़कर ना देखें, किंतु सफल होने के बाद पीछे देखना ना भूलें” जय श्री राम🙏
commentcomment
1
img
कई पुरुषों के चरित्र प्रमाण पत्र औरतें के इनबॉक्स में गिरवी पड़े रहते हैं..।।
commentcomment
2
create koo