koo-logo
koo-logo
backKoo - विश्वनाथ प्रसादGo to Feed
अरबों रुपये का विज्ञापन में मशगूल क्रिकेटरों को देश की प्रतिष्ठा का कोई ख्याल नहीं था.... चूल्लू भर पानी में डूब मरो
commentcomment
2

Comments

img
हम इन क्रिकेटरों को बंबइया भांडों से कम नहीं मानते !! जय मां भारती !!🇮🇳
commentcomment
img
देश में जितने भी तरह के जेहाद चल रहे हैं, सब इन बंबइया भांडों के द्वारा funded हैं और ये भांड, दाउद के इशारों पर काम करते हैं! और बदले में लेते हैं करोड़ों रुपए, जिनसे अपने भद्दे जिस्मों को सजाकर फिल्मों में नाटक करते हैं अच्छा बनने का ! और फ़िर इन गंदे इंसानों को ४००-५००रुपयों में देखने जाते हैं हम अज्ञानी!वह पैसा लौटकर पुनः जाता है दाउद के ही पास! स्वयं को , स्वयं ही नष्ट करवा रहे हैं हम!😡
commentcomment

More Koos from विश्वनाथ प्रसाद

img
जिसके पिताजी कम्प्यूटर लाए थे उसी के बेटे की मेमोरी डिस्क खराब हो गई! नतीजा पूरा देश भुगत रहा है।
commentcomment
2
img
हिन्दुस्तान हिन्दुओं का देश है हिन्दू राष्ट्र है, हिन्दू नहीं तो भारत भी नहीं’ :- परम पूज्य सरसंघचालक:- #डॉ_मोहनजी_भागवत 🙏
commentcomment
1
img
कोई तो कारण होगा कि अंग्रेजों ने सारे देशभक्तों को फांसी पर चढ़ा दिया पर कांग्रेसी जिन्हें सबसे बड़े देश भक्त गांधी, नेहरू को कहते हैं एक झापड़ तक नहीं मारा। आखिर क्यों...?🤔’
commentcomment
1
img
हिन्दुओं के अन्दर एक बड़ी कीमती चीज होती हैं वो है दया! और यही दया हिन्दुओं के पतन का कारण भी बनती है देशविरोधियों पर दया ना करे....
commentcomment
img
पंजाब कांग्रेस वो तबला बन चूका है जिसे... बाहर से कैप्टन और पार्टी के भीतर से सिद्धू बजा रहे हैं.😀😀😀
commentcomment
2
img
साईकल या हाथी, चाहे जिसकी करो सवारी। बाबाजी का बुलडोजर है सब पे भारी।,😀😀
commentcomment
1
img
हिन्दू और हिन्दुत्व एक है उन्हें अलग नहीं किया जा सकता। जो लोग इस पर सवाल खड़ा करते हैं वो असल में भारत के अस्तित्व पर सवाल खड़ा करते हैं।
commentcomment
1
img
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता श्री हरीश रावत जी का कहना है कि राहुल गांधी के प्रधानमंत्री बनने के बाद ही मैं राजनीति से सन्यास लूंगा, यानि हरीश जी ने साफ-साफ कह दिया गलती से भी मत सोचना कि मैं संन्यास लूंगा। 😀😀
commentcomment
img
यह दुनियां का पहला ऐसा आंदोलन है, जिसमें बिना गोली चले 700 लोग मर गये! किसी पत्रकार में इतनी हिम्मत नही है कि पूछ सके कि जब सरकार ने एक भी गोली नहीं चलाई एक भी डंडा नहीं पड़ा तो यह शहीद कैसे हो गए?? बिना रीढ़ की पत्रकारिता करने का इससे ज्यादा घिनौना षड्यंत्र किसी ने नहीं देखा??
commentcomment
create koo