koo-logo
koo-logo
img
@सुरेन्द्र8939

समस्या का ज्योतिषीय विश्लेषण, सामयिक विचार,ज्वलंत घटना पर चि

अमेरिकन महान दार्शनिक विलियम जेम्स ने जीवन भर अध्ययन कर संतुष्ट होकर कहे, मानवीय मष्तिष्क सिर्फ आत्मा के अस्तित्व का माध्यम है और यह कि वर्तमान मष्तिष्क के बदले में अन्त में एक ऐसा मष्तिष्क मिल जाएगा जिसके द्वारा इसके मालिक को समझ के छुपे हुए क्षेत्रों की जानकारी हो जाएगी।इस धरती पर हमारा आध्यात्मिक स्तर विस्तृत होता जाएगा, हम उम्र, अनुभव में बड़े होते है।,साथ ही बृहद जगत केबारे में सचेत होते है।
commentcomment
0

More Koos by this user

img
@सुरेन्द्र8939

समस्या का ज्योतिषीय विश्लेषण, सामयिक विचार,ज्वलंत घटना पर चि

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=996570327584415&id=100016943704726 जीवन में संतुलन का अभाव
commentcomment
0
img
@सुरेन्द्र8939

समस्या का ज्योतिषीय विश्लेषण, सामयिक विचार,ज्वलंत घटना पर चि

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=996570327584415&id=100016943704726 जीवन में संतुलन का अभाव
commentcomment
0
img
@सुरेन्द्र8939

समस्या का ज्योतिषीय विश्लेषण, सामयिक विचार,ज्वलंत घटना पर चि

स्थान -भेदसे जपकी श्रेष्ठताका तारतम्य - घर में जप करने से एक गुना से, गौ शाला में सौ गुना पुण्यमय वन या वाटिका तथा तीर्थ में हज़ार गुना, पर्वत पर दस हज़ार गुना तट पर लाख गुना देवालय में करोड़ गुना तथा शिवलिंग के निकट अनंत गुना पुण्यफल प्राप्त होता है।। गृहे चैकगुणः प्रोक्तः गृहे शतगुणः शतगुणः पुण्यारण्ये तथा तीर्थे सहस्त्रगुणमुच्यते।। अयुतः पर्वते पुण्यं नद्यां लक्षगुणो जपः। कोटिर्देवालये प्राप्ते अनन्तं शिवसंनिधौ।।
commentcomment
1
img
@सुरेन्द्र8939

समस्या का ज्योतिषीय विश्लेषण, सामयिक विचार,ज्वलंत घटना पर चि

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=996021304305984&id=100016943704726 लक्ष्य को भूलकर व्यवस्था पर ध्यान दें।
commentcomment
0
img
@सुरेन्द्र8939

समस्या का ज्योतिषीय विश्लेषण, सामयिक विचार,ज्वलंत घटना पर चि

हमारा मष्तिष्क उन संकेतों को ग्रहण कर लेता है जो विना सजगता से सोचे निश्चित परिणामों का पूर्वानुमान कर लेते हैं।यह आदत स्वचालित हो जाती है हम उस पर ध्यान नही देते कि हम क्या कर रहे हैं। सजगता के साथ ही व्यवहार बदलने की प्रक्रिया शुरू होती है।बदलने से पहले हमें अपनी आदतों के प्रति सजग रहना होगा। पाईंटिंग एंड कालिंग हमारे सजगता के स्तर को अचेतन आदत से ज्यादा चेतना के स्तर तक ले जाती हैं।बस अपने काम को बोलते जाना है। यह एक सरल तरीका है, जिससे हम अपने व्यवहार के प्रति अधिक सजग हो सकते हैं।
commentcomment
0
img
@सुरेन्द्र8939

समस्या का ज्योतिषीय विश्लेषण, सामयिक विचार,ज्वलंत घटना पर चि

बिहार में एक राजनीति बबंडर का लक्षण दिख रहा है।हमारे माननीय मुख्यमंत्री जी विपक्ष नेता से मिल लिए तो उसका गलत अर्थ न् लिया जाय।जदयू नेता राजनीति में जो बोला जाय बबंडर के समय प्रतिकूल चिंन्तन करें।नीतीश का गलबहियां बीजपी और राजद दोनों से है।याद आता हैं कि जदयू और राजद के मंत्रिमंडल का टूटा फिर बीजपी से भी हो गया कोई अंतर नही आया।गद्दी अपना है फिर नए प्रेम का अर्थ नही समझ पाया। सुना और देखा समझा हूँ,मुख्यमंत्रिपद ही सबकुछ है कर्म किया जा सकता है। धन्यबाद यह ख्याल आया व्यक्त कर दिया।
commentcomment
0
img
@सुरेन्द्र8939

समस्या का ज्योतिषीय विश्लेषण, सामयिक विचार,ज्वलंत घटना पर चि

सकारात्मक संयोजन:- किसी एक दिन में एक अतिरिक्त कार्य पूरा करना, एक छोटा करतब हो सकता है पूरे कैरियर के लिये यह गेम चेंजर हो सकता है।पुराने काम को स्वतः कर पाने के प्रभाव या किसी नये कौशल में विशेषज्ञ होना भी उल्लेखनीय होता है।बिना सोचें आप जितने भी काम संभालते है दूसरे क्षेत्रों में ध्यान केंद्रित करने को तैयार रहता है। ट्रैफिक जाम का कुंठा पोषण के दायित्व का भार वक़्त की जरूरतों का पूरा झरने का दायित्व ब्लड प्रेशर का कारण हो सकता है।जो सेहत के लिए खतरा है।। सकारात्मक वाले अवयव को अपनाएं।
commentcomment
0
img
@सुरेन्द्र8939

समस्या का ज्योतिषीय विश्लेषण, सामयिक विचार,ज्वलंत घटना पर चि

ज्ञान के अवयव कोई एक बात सीख लेने से हम विद्वान नही बन सकते,यह क्रमिक प्रक्रिया है।जीवन भर सीखने के प्रबृत्ति से इसमें बदलाव आ सकता है।हर पुस्तक कुछ नया ज्ञान और धरातल पर प्रयोग,स्तर पर अंतर ला देता है।इससे पुराने ढरे पर सोचने के तरीकों में भी परिवर्तन होता है।वारेन बफे कहते थे कि " ज्ञान इसी तरह से कार्य करता है।यह चक्रबृद्धि ब्याज के समान बढ़ता जाता है।थोड़ा अच्छा बनकर बात करनेसे उसके व्यवहार कोआप महसूस करेंगे मजबूत हो जायेगा।लोगआपके ब्यवहारको पलटकर जबाबदेंगें मजबूत सम्बन्ध बन जाएगा।
commentcomment
0
img
@सुरेन्द्र8939

समस्या का ज्योतिषीय विश्लेषण, सामयिक विचार,ज्वलंत घटना पर चि

@guest_9MBD1 कू पर स्वागत है चर्चापरिचर्चा करें, सकरात्मक
commentcomment
0
img
@सुरेन्द्र8939

समस्या का ज्योतिषीय विश्लेषण, सामयिक विचार,ज्वलंत घटना पर चि

सकारात्मक चिंन्तन से,परिवार का तनाव कम हो जाता है।तनाव पूर्ण समय से गुजर रहेहों तो सकारात्मक एटीट्यूड बनाये रखना जरूरी है।इसका मतलब यह नही हैकि आप परेशानी को नजरअंदाज करदें ऐसे में हमें नकारात्मक परिणामों से ध्यान हटाकर इस पर मनन करें कि इस स्थिति से भी कैसे एक अच्छे भविष्य के ओर बढ़ा जा सकता है।इस परिस्थिति में सकारात्मक सोच रखना ही लाभप्रद होगा।आधुनिक विज्ञान के अनुसार जब व्यक्ति भविष्य के बारे में सकारात्मक सोच रखता है तो वह परिवार का विश्वास जीतता है।परिवार के सदस्यों का तनाव ६०%कम हो जाता।
commentcomment
0
create koo