back
user
नयी कॉपियों को नए रिश्तों की तरह ही नहीं पता होता है हमारी फ़ितरत के बारे में, और इस तरह वे भी रफ़ कॉपियों में बदल जाती हैं..!! ~ विनोद विट्ठल
user
Replying to @AarTee33
0/400