back
user
आईने का जीना भी लाजवाब है* *जिसमें स्वागत सभी का है* *लेकीन,* *संग्रह किसी का नहीं.*
user
Replying to @shipra_ranjan
0/400