back
user
*इंसानी रिश्ते निभाने में* *परख नहीं* *बल्कि भरोसा होना चाहिए।* *क्योंकि* *परख विचलित करती है* *और* *भरोसा सदैव आनन्द प्रदान करता हैं।
user
Replying to @shipra_ranjan
0/400