back
user
रोज नये सवाल हमारे सामने होते है, समय रेत की तरह फिसल जाता है। जहाॅ जज्बात सिसकी लेते स्वार्थ एक तरफ मुस्कुरा रहा होता।।
user
Replying to @richa_tiwari
0/400