back
user
काया यदि स्वस्थ है सब कुछ करते हुए भी ओर नहीं करते हुए भी बहुत कुछ किया जा सकता है। प्रभु नाम जप स्मरण में भी काया का स्वस्थ होना बहुत आवश्यक है। पीड़ा पीड़ा हि होती है।
0/400