back
user
एकलखोरा ( जो दुसरो के साथ समन्वय नहीं बिठाता ) :: एक कैटेगरी तो वो है जो सचमुच समरथ होकर भी केवल अपने स्वार्थ का ध्यान रखते है तथा दुसरो को येन केन प्रकारेण अपनी तरफ खड़ा कर सिद्ध करते है कि वे कितने मिलनसार है समाज सेवक है + ऐसे लोग ही किसी सज्जन की अच्छाइयों का विकृत रूप बना उसे एकलखोरा का ख़िताब झूठमूठ का दिला देते है :: इसलिए अच्छी तरह कसौटी पर कस कर ही धारणा बनावे :: बहकावे में ना आवे : sa
0/400