back
user
संसार में ऐसा कुछ भी नहीं है, जिसे ,मैं कुरुप कह सकूँ ॥ कुरुपता और सुंदरता मेरे ही मन की उपज हैं॥
0/400