back
user
मनोविज्ञान कहता है,यदि किसी मनुष्य का समना बार-बार किसी चीज से हो तो वे उसे अधिक पसंद करेंगे।वह सच माना जायेगा, और जनता मानेगी।रैंकिंग के साथ खतरा हैकि सहानुभूति, दया की तुलना में लोगों को नफरत के लिए प्रेरित करना अधिक आसान है। मिस हांगेन कहती हैयहभारत में कंटेंट को लेकर चिंतित हो गयी थी ।भारत जैसे देशों मेंपहली बार इंटरनेट देख रहे लोग नही सोच सकते नही ,वह झूठ है जिसे कांग्रेस सपा बाम अपना रहेहै
0/400