back
user
*रिश्ता सिर्फ वो नहीं* *जो ग़म या ख़ुशी में साथ दे,* *रिश्ते तो वो हैं* *जो हर पल अपनेपन* *का एहसास दें!*
user
Replying to @shipra_ranjan
0/400