back
user
अपने *पाप* स्वयं ही धोने पड़ते हैं ... भगवान केवल *विधि* सिखाता है ... वह किसी के भी कर्मों में *हस्तक्षेप* नहीं करता और न ही बिन मांगे *मदद* करता है जब तक आत्मा स्वयं *स्वपरिवर्तन* के लिये तैयार नहीं होती ... वह न तो कोई *विधि* देता है और न ही कोई *सिद्धि* ... 🌸 सुप्रभात ... 💐💐 आपका दिन शुभ हो ... 💐💐
0/400