back
user
इबादत , आंधी तूफानों की, क्या बात करें, ऐ साहेब॥ तेरी मेरी सांसें तक, उसकी इजाजत से चलती हैं॥
0/400