back
user
✍️””””जय शिव शम्भू”””’’’’’’’’✍️ 🥀””फासले अक्सर रिश्ते में””🥀 ””अजीब सी ही दूरियां बड़ा देते हैं”” 🥀””लेकिन ऐसा भी नहीं है कि””🥀 ””मैंने सबसे मिलना ही छोड़ दिया”” 🥀””अकेला महसूस करती हूं””🥀 ””मैं खुद को ही अपनों की भीड़ में”” 🥀””लेकिन ऐसा भी नहीं है कि””🥀 ””अब मैंने अपनापन ही छोड़ दिया”” 🥀””परवाह करती हूं मैं सबकी””🥀 ””लेकिन सबको बताना छोड़ दिया”” ✍️”””जय भोले नाथ”””✍️ 🙏🙏🙏
user
Replying to @smriti....
0/400