back
user
असत्य से बड़ी कोई खाई नही, और सत्य से बढ़कर कोई पर्वत नही..
0/400