back
user
हम जब भी आपस में बातचीत करते है , एक दूसरे पर विश्वास करते है, प्रत्यक्ष एक दूसरे को कहते है तो उसमें गोल मटोल या अप्रत्यक्ष शब्दों का प्रयोग नहीं करते क्योकि उसमें तीसरे का कोई हक नहीं बनता , तीसरे को तब शामिल किया जाता है जब आपस में एक दूसरे पर पूर्ण भरोसा नहीं रहता ।सामिलआपस की विश्वास को धक्का लगता है, कमजोड़ होता है। इसलिए दोनों को आपस में वातचित विना तीसरे को जोड़े हल करना चाहिए।शुभरात्रि 💐
0/400