back
user
एक चिड़िया चोंच में तिनका लि‌ए जो जा रही है, वह सहज में ही पवन उंचास को नीचा दिखाती! नाश के दुख से कभी दबता नहीं निर्माण का सुख, प्रलय की निस्तब्धता से सृष्टि का नव गान फिर-फिर! नीड़ का निर्माण फिर-फिर नेह का आह्वान फिर-फिर..!! ~ हरिवंशराय बच्चन #काव्य_कृति ✍️
user
Replying to @AarTee33
0/400