back
user
ना जाने कब वो समझेंगे मेरे भी जस्बातो को सुने को बस एक ही बात मेरा दिल भी है बेताब कमाने वाली बिवी जो आई भूल गये सब घर में बहू भी है आई मेरे भी अरमान सब यू ही अधुरे रह गये लगता है अब इस घर मे दो मर्द ही बस रह गये
0/400