back
user
आँसू ही हैं वो जो निःस्वार्थ मित्रता निभाते हैं जब भी हम असहाय होते हैं चले आते हैं..
0/400