back
user
img
छोटेलाल पुत्र मंगली और छोटे गौतम
@छोटेलाल_पुत्र_मंगली_और_छोटे_गौतम
प्रेम अधिकार का दावा नहीं करता बात सही है प्रेम स्वतंत्र लेकिन आज के युग में यह प्रेम अधिकार का दावा भी कर देता है और परिवार को भी विनाश के कगार पर खड़ा कर देता है लेकिन सच्चा प्रेम सभी को समान दिलाता है पैसे का गया है दिल लगा है शरीफ तो परी क्या चीज है तो जिससे जिसका दिल लग जाए प्रेम हो जाए वह स्वतंत्र है लेकिन प्रेम करके किसी के परिवार को विनाश करना गलत है बहुत से ऐसे उदाहरण हैं साक्षात
audio
link
browse
link
0/400