back
user
कान्हा मन में बसी है राधा रानी! राधा के मन में बसे हैं घनश्याम! जोड़ी देख मेरा मन मुस्काए! जय जय बोलो कान्हा मन में बसी है राधा रानी! प्रेम प्रीत की ऐसी डोर बंधी है! मोर मुकुट संग बांसुरिया सजी है! देखो जोड़ी लग रही नयनाभिराम! जय जय बोलो राधे राधे श्याम! राधे राधे
0/400