back
img
गीता सिंह
@gita_singh
जपाकुसुमसंकाशं काश्यपेयं महाद्युतिम्। तमोऽरिं सर्वपापघ्नं प्रणतोऽस्मि दिवाकरम्॥ जपा के फूल की तरह जिनकी कान्ति है, कश्यप से जो उत्पन्न हुए हैं, अन्धकार जिनका शत्रु है, जो सब पापों को नष्ट कर देते हैं, उन सूर्य भगवान् को मैं प्रणाम करती हूँ।। 🌞ॐ सूर्याय नमः🚩🙏
user
@gita_singh पर जवाब दे रहे है
user
type
audio
link
link
browse
0/350