back
user
हुजूम देख के रास्ता नहीं बदलते हम किसी के डर से तकाज़ा नही बदलते हम ज़ेर-ए -क़दम रास्ता हो हजार खारो का जो चल पड़े तो इरादा नही बदलते हम |
user
Replying to @sameerLC5BU
0/400