back
user
जो इंसान अपने स्वयं की निंदा सुन लेता है वह सारे विश्व पर विजय प्राप्त कर लेता है: महामना मदन मोहन मालवीय
0/400