back
user
उठो तो ऐसे उठो कि .. फ़ख़्र हो बुलंदी को, झुको तो ऐसे झुको ..बंदगी भी नाज़ करे.. आये हो निभाने को जब, किरदार ज़मीं पर, कुछ ऐसा कर चलो कि ज़माना मिसाल दे..
0/400