back
user
#आध्यातम (५५) मेरे पूज्य गुरुदेव कहा करते थे कि आदमी बहुत भुलक्कड़ हुआ करता है! उसे बार बार जगाते रहिए! उसकी विस्मृति की राख झाड़ते रहिए! असल में इंसान कहता तो है कि मैं सब जानता हूं,पर मानता कुछ भी नहीं! उसकी जानकारी, भाव संवेदना हीन शब्द और वाक्य होते है! जानकारी से भाव निकल जाये तो जानकारी निर्जीव हो जाती है! यही सनातन के साथ हुआ है! #आईएएस_से_इस्लामिक_स्टडीज_हटाओ जय श्रीकृष्णा मित्रो!
user
Replying to @r_p_gangwar
0/400