back
user
ऋतु परिवर्तन विषमता में समता महान संरक्षण ने परमात्मा का रुप बदलकर प्रकृति के संतुलन ने के लिए ,**ऋषि***रुप **ऋषि***रुप में प्रकति हम सब के लिए हमारा सुरक्षा कवच बनकर हमे त्योहारों को मनाने का संदेश दिया। नकारात्मक ऊर्जा को बढ़ावा देकर देश को किस दिशा में ले जाना चाहते हैं यह एक गंभीर विषय है। देश के हर जनमानस की बुद्धि विवेक से परे है। धनतेरस रुपी पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं।।।
0/400